Beauty Parlour Course in Hindi |Beautician Course PDF Free Download सम्पूर्ण जानकारी हिंदी में.

महिलाओं के लिए सुंदरता सबसे अधिक महत्वपूर्ण है इसलिए वर्तमान में सभी लड़कियां महिलाएं अपने सुंदरता के प्रति जागरूक है और वे चाहते हैं कि वे अधिक से अधिक सुंदर लगे इसके लिए महिलाएं लड़कियां ब्यूटी पार्लर मैं जाकर अपनी सुंदरता निखारते हैं, तो आज हम ब्यूटी पार्लर से संबंधित सूचना प्रदान करेंगे जिसके माध्यम से आप ब्यूटी पार्लर कोर्स एवं ब्यूटीशियन कोर्स (Beauty Parlour Course in Hindi |Beautician Course PDF Free Download) के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे जिससे आप सिखकर ब्यूटी पार्लर खोल सकते हैं और अपने अनुभव को बढ़ा सकते हैं.

क्या है इस जानकारी में Show
Beauty Parlour Course  in Hindi
Beauty Parlour Course in Hindi

थ्रेडिंग (Eyebrow Threading) क्या है और कैसे करें.

Eyebrow Threading : थ्रेडिंग वह है जिसके माध्यम से Eyebrow को आकार दिया जाता है, थ्रेड (Thread) की सहायता से अनचाहे बाल को निकालकर Eyebrow को सुंदर बनाते है, नया लुक देते है अनचाहे बाल को हटाते है उसे Eyebrow Threading कहा जाता है।

Eyebrow threading beauty Parlour

ग्राहक के लिए टिप्स :- ग्राहक को जानकारी देना, जो हमारे पार्लर में आते है ग्राहक उन्हें थ्रेडिंग की जानकारी देना है। उन्हें समझाना है कि थ्रेडिंग बनाने से आपका चेहरा बहुत सुन्दर दिखेगा, आपका चेहरा दूसरो से चमकदार हो जायेगा, ग्राहक को अपने तरफ से अपने प्रोडक्ट की जानकारी देना है।

थ्रेडिग 5 प्रकार के होते हैः- Beauty Parlour

  • गोलाकार
  • सीधा आकार
  • एस आकार
  • आर्च/चाप
  • उठा आर्च

थ्रेडिंग के लिए आवश्यक सामाग्री:-

  • धागा
  • कंधी
  • कैंची छोटा
  • टेलीकाम पाउडर
  • टोनर
  • अलुवेरा जेल
  • दर्पण
  • अफ्रान
  • अस्टीजेंट लोशन
  • काॅटन
Beauty Parlour Chair
Beauty Parlour Chair
Beauty Parlour Apron
Apron for Beauty Parlour
Beauty Parlour  Thread
Thread
Beauty Parlour  Toner
Toner
Beauty Parlour  Comb
Comb

थ्रेडिंग के अपवाद :-

  • जिसके चेहरा पर पींपल का समस्या हो, या आंखो में आंसु आता हो या फिर
  • स्किन समस्या हो तो थ्रेडिंग नहीं करना चाहिए और
  • स्कीन सेन्सेटिव हो तो भी नहीं करना चाहिए।

थ्रेडिंग के लाभ:-

इसके लाभ निम्न हैः-

  • सुन्दरता बढ़ाने के लिए।
  • थ्रेडिंग को सही आकार देने के लिए।
  • चेहरा को खुबसुरती देने के लिए।
  • थ्रेडिंग करवाने से चेहरा में निखार आता है।
  • अनचाहे बाल को हटाने के लिए।
  • थ्रेड से चेहरा बदला सा दिखता है।
  • थ्रेड से आईब्रो के बाल घने होते है।
    कार्यप्रणाली, प्रक्रिया:-
  • ग्राहक का ध्यान रखना।
  • आरामदायक कुर्सी
  • एफ्रान
  • फेशियल बेल्ट

सावधानी:-

1. थ्रेड को सावधानी से चलाना

  1. प्लकर का उपयोग सावधानी से करना।
  2. धुला हुआ एफ्रान उपयोग करना।
  3. कैची का उपयोग ध्यान से करना।

थ्रेडिंग करने का विधि:- Beauty Parlour

1. थ्रेडिंग बनाने के पूर्व अस्टीजेंट लोशन का उपयोग कर हाथों की बैक्टिरिया को दूर करते है।

  1. उसके बाद आई ब्रो में काॅटन की सहायता से टेलीकाम पाउडर लगाया जाता है।
  2. फिर थ्रेड से थ्रेडिंग को आकार देकर बनाते है।
  3. थ्रेड को कंघी से सीधा कर कैची से एक्सटरा बाल को अलग करते है।
  4. प्लकर की सहायता से छुटे हुए बाल को हटाते है।
  5. मसाज के लिए एलुवेरा जेल या फ्रुट क्रीम का उपयोग करते है।
  6. अंत में ग्राहक को दर्पण दिखाते है।
  7. जिनके चेहरा में पींपल होते है, उनके चेहरा में थ्रेडिंग के बाद टोनर लगाते है।

कार्यक्षेत्र:-

इसके लिए ट्राली में थ्रेडिंग में उपयोग होने वाले समान रखा जाता है जो इस प्रकार हैः-

  1. पार्लर ट्राली
  2. थे्रड
  3. बाउल
  4. पाउडर
  5. प्लकर
  6. कैची
  7. थे्रड कंघी
  8. काॅटन
  9. जेल
  10. अस्टीजेंट लोशन

थ्रेडिंग के बाद देखभाल

  1. 8 से 10 घंटे तक साबुन उपयोग ना करें।
  2. 24 घंटे तक आई मेंकअप ना करें।
  3. 48 घंटे तक ब्लीच ना करें।
  4. 8 घंटे स्क्रब ना करें।
  5. ब्लीच के बाद थ्रेडिंग ना करें।

ध्यान देने योग्य बातें:-

  1. हम ग्राहक को आराम दायक कुर्सी में बैठाते है।
  2. थ्रेडिंग बनाने से पहले ग्राहक के स्कीन को उपर खींचने बोलते है।
  3. यदि ग्राहक का नाक छोटा या चपटा हो तो आई ब्रो गोलाकार बनाना चाहिए।
  4. आई ब्रो को सही आकार देना चाहिए।
  5. यदि चेहरा गोलाकार हो तो यु या व्ही आकार देना चाहिए।
  6. अगर आई ब्रो बनाते समय दर्द हो रहा हो तो एक बाउल में गर्म पानी को एक नैपकीन को गीला करके आई ब्रो के ऊपर रखने से आई बा्रे बनाते समय दर्द नहीं होता है।
  7. आई ब्रो बनाते समय बहुत सावधानी बरतना चाहिए।
  8. दाएं और आई ब्रो को आगे आकर और बांए और आई ब्रो को पीछे जाकर बनाना चाहिए।
  9. आई ब्रो को कभी भी पतला नहीं देना चाहिए।
  10. यदि आई ब्रो बनाने के बाद सूजन दिखाई दे रहा हो, एक गिलास ठण्डे पानी में नीबू निचोड़कर सुबह पी लेना चाहिए सुजन कम होता है।

महत्वपूर्ण नोट:-

  1. चेहरा हमारा राउण्ड वाला हो तो हल्का आर्च करना है जिससे हमारा चेहरा भरा दिखेगा।
  2. फेस हमारा चैकोर वाला हो तो आर्च आकार देंगे और आई ब्रो को मोटा बनाएंगे।
  3. चेहरा हमारा अण्डाकार है तो हम कोई भी आकार दे सकते है अगर आर्च आकार देंगे तो नुकीला आकार देंगे।
  4. चेहरा हमारा लंबा है तो हम सीधा आकार देकर भौहे सपाट हो।
  5. चेहरा हमारा हैट आकार है तो हम गोलाकार सेफ बनाएंगे।

Beauty Parlour Waxing – Theory, demonstration and Practical

परिभाषा:- 1. शरीर के अनचाहे बालों हटाने के लिए वैक्स की प्रक्रिया अपनायी जाती है।

  1. बाल हटते है साथ ही शरीर को नमी मिलती है।
  2. स्कीन मुलायम और साफ होती है।
  3. हमारा हाथ और पैर गोरा लगता है।
  4. वैक्स को 60-65 डिग्री में गर्म करते है।
Beauty Parlour
Waxing Process

वैक्स दो प्रकार के होते हैः-

  1. Hot Wax (हाॅट वैक्स) :- हाॅट वैक्स को ठंड के दिनों में उपयोग में लायी जाती है।
  2. Cold Wad (कोल्ड वैक्स) :- कोल्ड वैक्स को गर्मी के दिनों में उपयोग में लायी जाती है।
    आजकल बाजार में बहुत से प्रकार के वैक्स उपलब्ध है –
  3. God Wax (गोल्ड वैक्स)
  4. हनी टच वैक्स
  5. Alvera Wax एलुवेरा वैक्स
  6. Chocklet Wax चाॅकलेट वैक्स
  7. व्हाइट चाकलेट वैक्स
  8. Butter Wax (बटर वैक्स)
  9. Millky Wax (मिल्की वैक्स)
  10. कटोरी वैक्स

वैक्स करने की विधि:-

Method of Waxing
सबसे पहले जिस जगह वैक्स करनी है उसे साफ करें जैसे:- हाथों में करना हो तो हाथों को साबुन से साफकर सुखाना है, फिर पाउडर लगाये फिर स्पेटुला से हाथों में वैक्स लगायेे। वैक्स बालों की उगने की दिशा में लगानी चाहिए फिर विपरीत दिशा में खिचना है स्ट्रीप को अब वैक्स में स्ट्रीप चिपका दे फिर स्ट्रीप को एक झटके में खींच लें ऐसा करने से वैक्स से रूएं उखड़ जाएंगे यदि कुल रूए बच गए हो तो थ्रेड चला दें।

उपकरण ( Waxing Tools) :-

  • वैक्स हीटर (Wax Heater)
  • हीटर (Heater)
  • स्ट्रीप्स (Strips)
  • स्पेटुला (Spetula)
  • पाउडर (Powder)
  • पार्लर चेयर (Parlour Chair)
  • एलुवेरा जेल/ फ्रुट जेल/क्रीम
  • टोनर (Toner)

लाभ (Beauty Parlour Waxing Benefit) :-

  • वैक्स करने से हाथ-पैर सुंदर दिखते है।
  • वैक्स करने से मरा हुआ सेल निकल जाते है।
  • रक्त संचार ठीक होता है।
  • स्कीन मुलायम और साफ लगती है।
  • बार-बार वैक्स करने से स्कीन गोरी होती है।

सावधानी:-

  • वैक्स करते समय हीटर में स्पेटुला को हीटर में नहीं छोड़ना चाहिए।
  • वैक्स करते समय हाथों के पीछे टाइट पकड़ना चाहिए।
  • अधिक गर्म वैक्स को हाथ – पैर में नहीं लगाना चाहिए नही ंतो स्कीन जल जायेगी।
  • वैक्स को सावधानी पूर्वक खींचना चाहिए हल्के हाथों से नहीं खींचना चाहिए।
  • वैक्स करते समय स्ट्रीप्स को एक झटके में खींचना चाहिए।


ग्राहकों से जानकारी लेना:-

  • ग्राहक से पूछ लेना चाहिए कि वह सुगर का मरीज तो नहीं है नही ंतो वैक्स नहीं करना चाहिए।
  • स्कीन में कोई समस्या हो तो वैक्स नहीं करना चाहिए।
  • एलर्जी वाला स्कीन में वैक्स नहीं करना चाहिए।
  • कटे छिले स्कीन में वैक्स नहीं करना चाहिए।
  • वैक्स करने के बाद ब्लीच नहीं करना चाहिए।

वैक्स करने के बाद देखभाल:-


वैक्सींग के बाद त्वचा में थोड़ी चुनचुनाहट सी होती है, इसमें घबराना नहीं चाहिए बल्कि कोई मिल्क लोशन या एलुवेरा जेल या टोनर लगाना चाहिए वेक्सिंग के तुरंत बाद ही गर्म पानी का प्रयोग ना करें और ना ही साबुन का प्रयोग करें, और ना ही वेक्स के बाद मेनिक्योर या पेडीक्योर ना करवायें क्योंकि वेक्सिंग के बाद रोम छिद्र खुल जाते है इसलिए ना करायें।

वैक्स बनाने का घरेलु उपाय:-

  • 200 ग्राम चीनी लेंगे।
  • एक बर्तन के पानी में चीनी डालकर उबालने के बाद उचे अच्छे से गाढ़ा कीजिए।
  • 150 से 200 ग्राम शहद मिलायें उसमें एक या दो नीबू अच्छे से निचोड़ ले।
  • वैक्स को सुगंधित करने के लिए सुगंधित आइल डाले फिर सभी को अच्छे से मिक्स कर अच्छे से गाढ़ा कीजिए फिर काटन के कपड़े से उसे अच्छे से छाने, एक कप पानी में एक से दो बूद मिलाइये अगर वो पानी से अलग हो जाये तो वैक्सजेल तैयार है अगर नहीं हुआ है तो अच्छे से गाढ़ा कीजिए ।
  • कटोरी वैक्स को फेस को ग्रो के लिए उपयोग में लाया जाता है, बटर वैक्स को भी फेस के उपयोग में लाया जाता है।

Manicure & Pedicure – Beauty Parlour


मैनिक्योर :- वह प्रकिया है जिसमें हाथों की सफाई की जाती है अर्थात, मैनी अर्थात हाथ क्योर अर्थात देखभाल हाथों की भलीभांति देखभाल ही मैनिक्योर है, हथेली से कोहनी तक की सफाई को मैनिक्योर कहते है, नाखूनों को काटना व साफ करना, मृत त्वचा को हटाना आदि मैनिक्योर के तहत आता है।


उपकरण:-

  • नैल कटर – नाखून को काटते है।
  • पूशर – नाखून को धकेलने के लिए।
  • कट्टीकल कटर – मरी हुई त्वचा को कट करते है।
  • कट्टीकल क्रीम – मरी हुई त्वचा इसी क्रीम से निकलती है।
  • फिल्टर – नाखून को आकार देते है।
  • आस्टीक – शुगर मरीज के लिए उपयोग में आता है।
  • मैनिक्योर ब्रश – नाखून को शायनिंग लेने में उपयोग करते है।
  • अस्टरीजेन्ट लोशन
  • टब – हाथों को डुबाकर रखते है।
  • शैम्पू – टब में शैम्पू डालते है।


मैनिक्योर की विधि (Method of Manicure in Beauty Parlour) :-

सबसे पहले टब में गुनगुना पानी लेना है इसमें शैम्पू व अस्टराजेन्ट लोशन डालना है दो या तीन बूंद उसके बाद हाथों में अस्टराजेन्ट लोशन लगाना है अगर ग्राहक के हाथों में उसे थीनर से साफ करते है नाखून को नाखून कटर की सहायता से कट करना है अब फिल्टर से आकार देना है अब कट्टीकल क्रीम को पूशर की सहायता से लगाना है, और फिर हथेली को पानी में 5 मिनट तक डुबाते है, पानी से हाथों को निकालकर पुशर की सहायता से स्कीन को फैलाते है, फिर कट्टीकल कटर द्वारा मरी हुई त्वचा को काटते है, नाखून को उठाते है फिर स्क्रब से हथेली व कोहनी तक मसाज करते है, सूखने पर पानी डालते है, उसमें रोमछिद्र खुलता है, फिर पानी से साफ कर लेंगे, फिर शैम्पू को हथेली से कोहनी तक लगाकर मैनीक्योर ब्रश से साफ करेंगे, फिर पानी से साफ कर लेंगे, फिर मसाज से मसाज करेंगे सरक्यलर मूमेंट में हाथों को मसाज करेंगे फिर मैनिक्योर बफर से नाखून पर चलायेंगे, और पानी से साफ करेंगे।

Manicure in Beauty Parlour
Manicure in Beauty Parlour

सावधानी:-

  • कट्टीकल कटर से सावधानी पूर्वक मृत त्वचा को निकाले।
  • शुगर मरीज से पूछ कर मैनिक्योर करें।
  • शुगर मरीज में आरस्टीक का प्रयोग करें।
  • नाखून को सावधानी पूर्वक आकार दें।
  • स्क्रबर का उपयोग सावधानी पूर्वक करें।
  • ग्राहक को गहना उतारने बोले अंगूठी, चुड़ी आदि।

विरोधाखण्ड:-

  • यदि किसी ग्राहक को स्कीन समस्या हो तो, एग्जीमा आदि हो तो मैनिक्योर ना करें।
  • यदि ग्राहक का प्लास्टर कुछ दिन पहले ही उतरा हो तो मैनिक्योर किसी भी स्थिमि में ना करें।

लाभ:-

  1. मैनिक्योर करने से हाथों मंे चमक आती है।
  2. खुन दौड़ान सही होता है।
  3. नाखून चमकने लगते है।
  4. हथेलिया मुलायम और साफ होते है।

पेडीक्योर (Pedicure in Beauty Parlour ) :-

परिभाषा:- घुटने से लेकर तलवे तक की सफाई को पेडीक्योर कहते है, पेडीक्योर पैरो की सफाई तक की प्रक्रिया है, पैडी – पैर, क्योर – देखभाल इस प्रक्रिया से पैरो में नया लुक आता है नाखूनों को नया आकार मिलता है मरा मांस अलग होते है।

Manicure & Pedicure -  Beauty Parlour
Manicure & Pedicure – Beauty Parlour

उपकरण:-

  • स्क्रबर
  • हाइड्रोजन पैराआक्साइड
  • डेड स्कीन कटर
  • पुमीक स्टोन
  • नाखुन कटर
  • टब
  • पुशर
  • कट्टीकल कटर
  • कट्टीकल क्रीम
  • फिलर
  • आरस्टीक
  • पेडीक्योर बफर
  • अस्टरीजेन्ट
  • शैम्पू
  • स्पेंग
  • काॅटन
  • सेन्टी नेपकीन
  • स्क्रब
  • डेड स्कीन कटर

विधि (Method of Pedicure) :-

सबसे पहले टब में गर्म पानी लेना है और उसमें हाईड्रोजन पैराआक्साइड शैम्पू और एसट्रीनगेन्ट लोशन डालना है।अगर पैरों में नेल पेंट लगाना है तो उसे नेल क्लीनर (थीनर)से साफ करना है,नेल को नेल कटर की सहायता से या अ सेफ में कट करना है। फिर नेल फिलर से सेव देना है,उसके बाद नेल्स में कटिकल आॅइल या क्रिम लगाए ,5 मिनट के लिए लगाए रखना है,पुशर कि सहायता से चिपकी हुई त्वचा को पुश करना है,फिर कटिकिल कटर से मृत त्वचा को निकालना है, फिर आर स्टीक से सामने वाले नेल को उठाना है, बाद मे स्क्रैब से 5 से 10 मिनट तक मसाज करना है।
स्कै्रब से पोश (रोम छिद्र) ओपन होता है, फिर शैम्पू को पूरे पैर मे लगाना है पैडीक्योर ब्रश से बुटिंग (ब्रश चलाना )है, पैरो को पानी से धोकर साफ करना है, फिर साफ नेफकीन से पोंछ देना है।मसाज क्रिम सूख जाए तो एलोविरा जेल लगाकर मसाज करें, मसाज करने के बाद पेक लगाना है फिर पेक लगाकर 5 मिनट छोड़ दे स्क्रबर से एड़ियो के डेड स्कीन को निकालते है। फिर पेक को स्पेन्ज की सहायता से निकालना साफ पानी से नेपकीन से पोंछकर नेल को बुटिंग करना है।

सावधानीयां –

कटिकल कटर सावधानी पूर्वक चलाना है।

प्रोडक्ट का एक्सपाइरी डेट देखकर लेना चाहिए ।

स्क्रब का उपयोग हल्के हाथों से करना चाहिए ।

कस्टमर को गहने पहले से निकालना चाहिए।
लाभ:-

पैडीक्योर करने से पैर सुन्दर दिखाई देता है।

ब्लड सरक्यूलेशन ठीक रहता है।

एडियों के फटने से राहत मिलती है।

पैडीक्योर से पैर क्लीन और साॅफ्ट होती है।

पैरों की सारी गंदगी दूर हो जाताी है।

विरोध खण्डन:-

जले कटे स्कीन वालो को पैडीक्योर नहीं कराना चाहिए ।

शूगर पेसेंट के लिए (आॅरेंज स्टीक) का ही प्रयोग किया जाना चाहिए।

स्कीन प्राॅबलम वाले पैडीक्योर से बचें।
पैडीक्योर के बाद का देखभाल:-

पैडीक्योर के बाद तुरंत साबुन का उपयोग नहीं करना चाहिए।

पैडीक्योर करने के बाद 8 से 10 घण्टे तक साबुन का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

पैडीक्योर के बाद ब्लीच नहीं करना चाहिए ।

10 घण्टे तक कोइ भी केमिकल्स प्रोडक्ट का प्रयोग न करें।

पैडीक्योर के तुरंत बाद धूप में न जाए ।

पैडीक्योर के बाद खाली पैर न चलें।

Bleaching Process in Beauty Parlour


ब्लीच:- ब्लीच एक ऐसा केमिकल प्रोडक्ट है जिसमें फेस के बाल को ब्राउन किया जाता है। जिसमें फेस ग्लोइंग और सुन्दर दिखाई देता है।इससे फेश साॅफ्ट होता है, और हम गोरे लगते है।

Bleaching Process in Beauty Parlour
Bleaching Process in Beauty Parlour


ब्लीच के प्रकार:-

  • पाउडर ब्लीच
  • क्रिम ब्लीच ।

ग्राहक को दिलासा देना – Beauty Parlour

ग्राहक को बताना है कि आपके फेश पर कोई साइड इफेक्ट नहीं होगा आपका फेश चमकने लगेगा ,ग्लोइंग हो जाएगा और स्मार्टनेश बढ़ जाएगा।

जानकारी प्राप्त करना – ग्राहक से पूछेंगें कि आपको स्कीन प्राबलम तो नहीं है।

विरोध खण्डन:-

  • कटा छिला हो फेश तो ब्लीच नहीं करना चाहिए।
  • थ्रेडिंग करने के बाद ब्लीच नहीं करना चाहिए ।
  • जिसके फेश में ट्रिटमेंट चल रहा हो, तो ब्लीच नहीं करवाना चाहिए।
  • पतली स्कीन वालो को ब्लीच नहीें करवाना चाहिए,उससे स्कीन रेड हो जाती है।
  • रूखी त्वचा वालो को ब्लीच कम करवाना चाहिए साल में 2 बार ।

लाभ:-

  • ब्लीच के फेश ग्रोथ ब्राउन हो जाता है जिससे फेश गोरा लगता है।
  • फेश ग्लोइंग स्कीनिंग और स्मार्टनेस लगता है।
  • फेश की झूर्रियां दूर होती है।
  • फेश में साइनिंग आता है।
  • फेश गोरा लगता है।


ग्राहक का ध्यान रखना –

  • इसमें सबसे पहले ग्राहक को पार्लर चेयर देना चाहिए ं।
  • उससे जानकारी लेना चाहिए।
  • ग्राहक जो जेवर पहने है उसे निकलवा लेना चाहिएं।

सावधानियां:- Beauty Parlour

  • एक्टीवेटर पाउडर को चुटकी भर डालना चाहिएं।
  • आंखों में ब्लीच नहीं लगाना चाहिएं।
  • आई ब्रो और लिप मेें नहीं लगाना चाहिए।
  • यदि स्कीन में कोई भी प्राॅबलम हो तो ब्लीच नहीं लगाना चाहिएं।
  • ब्लीच को टेस्ट करके ही स्कीन में एपलाई करना चाहिए।

विधि:-

  • कस्टमर को आराम दायक चेयर देना चाहिए।
  • एसट्रींगनेट- कस्टमर के हाथो एवं ब्यूटीशियन को अपने हाथो में एसट्रीगनेट लगाना चाहिए।
  • एफ्रान – ग्राहक को एफ्रान पहनाना चाहिए और फेशियल बेल्ट लगाना चाहिएं।
  • ब्यूटीशियन को भी एफाॅरान पहनना चाहिए ।
  • ग्राहक के फेश को क्लीनजिंग सिंक लगाते ंहै, फिर मसाज करते है फिर 5 मिनट मसाज करते है फेश को उपर चढाते हुए, फिर काॅटन की सहायता से पोंछते है।

ब्लीच क्रिम:- Beauty Parlour

ब्लीच क्रिम को फेश के अनुसार लेना होता है।

एक्टीविटर को चुटकी भर लेना होता है, फिर दोनो को मिक्स करना पड़ता है,मिक्स करने के बाद हाथों मे व कान के पास चेक करते है फिर जानकारी लेना है कि जलन हो रहा है कि नहीं ,फिर फेश मे एप्लाई करना है, ब्लीच को फेश मे 10 से 15 मिनट तक लगा कर रखना है फिर काॅटन से पोंछ देना है और काॅटन की सहायता से टोनर फेश मे लगाना है इससे खुले रोम छिद्र बंद हो जाते है।

कार्यस्थल:-

  • एफरान
  • प्लास्टिक इस्पून
  • ब्लीच क्रिम
  • फेषियल बेल्ट
  • मसाज क्रिम
  • टोनर
  • एसट्रींगनेट (सेनेटाइजर)
  • लोशन

Beauty Parlour Detanning – Bleaching of face

De Tang –   ( Rage De Tang Company)

  • डी टेंग ब्लीच की तरह नहीं होता ।
  • डी टेंग क्रिम जैसा होता है।
  • डी टेंग से कालापन दूर होता है।
  1. Rage D tang
  2. Natur D tang
  3. Roop Mantra D tang
  4. Fair Glow Tang

सावधानी: –

  • डी टेन्ग लगाने के बाद धूप में न निकले ।
  • डी टेन्ग लगाने के बाद 8-10 घंटे तक साबुन उपयोग नही करना चाहिए।
  • डी टेन्ग लगाने के बाद Moisturiture नही लगाना चाहिए।


Detan :- Detan removl Cream है Taning का अर्थ है जो सूर्य की रोशनी से आधा रंग गोरा आधा रग काला हो जाता है हमारा स्कीन काला पड़ जाता है उसे Taning कहते है।
Detan Cream :- उस Taning की Remove करता है।

विधि:-

सबसे पहले किसी अच्छा फेस वाश या सुद्ध दूध से स्कीन को अच्छी तरह साफ कर ले, उसके बाद डेटान क्रीम फेस पर लगा दे 10-15 मिनट बाद हाथों में पानी लेकर उगलियो की मदद से क्रीम को स्कीन में अवशोषित होने तक मसाज करे और 5-10 मिनट तक छोड़ दे, सबसे अत मंे किसी साफ्ट काॅटन या फिर गीले टावेल से स्कीन को पोछ लें, और फिर फेश में डवपेजनतपेमत लगा दे।

ठमेज

Best Cream – Sun taning removal crem

  1. Raga detan
  2. Nuture Assence lacto tan clear
  3. Expert Glow lotas hrbals white glow lisht and brightening deep moisturizing cream.
  4. Kaya Night cream.
  5. O3+ meladerm crem.
  6. Expert glow lacto bleech tan removal cream

Detan के गुण:- Beauty Parlour

  • इसका असर लगाने के तुरंत दिखाई देने लग सकता है।
  • यह क्रीम बैक्टिरिया और गंदगी के कारण होने वाले नुकसान से त्वचा की रक्षा करता है।
  • सुरज की UV किरणों से होने वाली नुकसान से बचाती है।
  • Skin Tan और झाइयो को सुधार सकती है।
  • इसे महिला एवं पुरूष दोनों उपयोग कर सकते है।
  • सभी प्रकार के स्कीन के लिए फायदेमंद हो सकती है।

Detan के अवगुण (दोष):-

  • इसकी गंध कुछ लोगों को अच्छी नहीं लग सकती।
  • तेल स्कीन वालों के लिए पिंपल की समस्या हो सकती है, इसलिए इसे उपयोग करने से पहले कानों के पीछे या पैरो में टेस्ट जरूर कर लें।
  • कुछ लोगों के स्कीन में असर दिखाने में समय लग सकता है।

Raga Professional detan creme Beauty Parlour


सबसे अच्छी जंदपदह तमउवअंस बतमउ में से एक है यह जंदपदह को हटा कर हमारे स्कीन को चमक एवं मुलायम बना सकती है इस कंपनी का दावा है कि स्कीन में मौजूद क्लासिक एसिड व मिल्क व हनी के एक्टिव तत्व सूरज के जंदपदहप्रभाव को दूर करने में मदद कर सकते है।

सावधानियाॅं:-

Detan करने के तुरंत बाद मेकअप नहीं करना चाहिए ।

साबुन एवं फेस वास नहीं लगाना चाहिए।

कोई भी केमिकल पोडक्ड उपयोग उपयोग नहीं करना है।

8 से 10 घंटे तक धूप में नहीं निकलना है।


Clean Up – Beauty Parlour

Clean Up – वह प्रक्रिया है जिसमें फेष में व्याप्त गंदगी दूर होती है फेष क्लीन और चमक दिखने लगती है यह प्रक्रिया सप्ताह मंे या 15 दिन में करनी चाहिए।

ग्राहक को दिलासा देनाः-

  • हम ग्राहक को बताएंगे कि क्लीन अप करवाने से स्कीन की गन्दगी दूर होती है।
  • फेष क्लीन और चमक हो जाता है।
  • क्लीन अप करवाने से ब्लड सरक्युलेषन बढ़ता है।

ग्राहक को ध्यान देना :-


हम ग्राहक को पूछेंगे कि उनको किसी प्रकार का एलर्जी तो नहीं है फिर कोई इलाज चल रहा है क्या

उपकरण:-


  1. Parlour chir
  2. Cleaning milk
  3. Scrub
  4. Face pack
  5. Toner
  6. Rose Water
  7. Astringent
  8. Spenz
  9. Alovera jel
  10. Massage crème
  11. Bowl
  12. Facial belt
  13. Afron

विधिः- Beauty Parlour

  • पूराने मेकअप क्लीजिग मिल्क और काॅटन से निकालेंगे।
  • क्लीजिंग मिल्क को फेस पर अप्लाई करेेंगे।
  • हाथ से मसाज करेंगे इस प्रक्रिया को 5 से 10 तक करेंगे फिर स्पींज से साफ करेंगे।
  • स्क्रब से हल्के हाथों से मसाज करेंगे हल्के हाथों से 5 से 10 मिनट फिर साफ करेंगे।
  • काॅटन की सहायता से फेष में टोनर लगाऐंगे।
  • पेक ब्रष की सहायता से पूरे फेष पेक लगाऐंगे, पेक सुखने के बाद उसमें स्प्रे करके 2 मिनट तक मषाज करेंगे, फिर स्पेंज की सहायता से पेक को क्लीन कर देंगे, पूरे फेष में टोनर लगाएंगे।

सावधानियाॅ:-

  • फेष के हिसाब से क्रीम का उपयोग व सेलेक्ट करेंगे।
  • स्क्रब करने बाद स्क्रब का धागा फेष पर नहीं छुटना चाहिए।
  • आॅखों को बचाकर स्क्रब करें।
  • क्लीन अप करते समय जेवर को निकाल लेना चाहिए।
  • पेक लगाते समय हमेषा ब्रष को उपर लेकर ही लगाए।

बाद की देखभाल:-

  • क्लीनअप कराने के बाद 8-10 घंटे साबुन उपयोग ना करें।
  • कोई भी केमिकल प्रोडक्ट उपयोग ना करे।
  • क्लीन अप के बाद ब्लीच नहीं करना चाहिए।
  • 8-10 घंटे तक मेकअप नहीं करना है।
  • धूप में फेष को कव्हर करके जाना है।

लाभ:-

  • स्कीन मुलायम होती है।
  • फेष की गंदगी दूर होती है।
  • फेष में खून का सरक्यूलेषन सही होता है।

घरेलु नुस्खे:-


  • क्लीजिंग मिल्क कैसे बनाना है –
  • कच्चा दूध, नीबू का रस मिक्स कर बनाएंगे।
  • स्क्रब – 1 चम्मच सूजी , कच् चा दूध, 1 चम्मच बेषन, 1 चम्मच रोस वाटर सबको मिक्स कर स्क्रब बनाते है।
  • फेष पेक – मुल्तानी मिट्टी, एलुवेरा जेल, आधा चम्मच रोस वाटर तीनों को मिक्स कर फेष पेक बना सकते है।

हर्बल उपचार – Beauty Parlour


झुर्रियाॅं दूर करने हेतु घरेलु उपाय

1 चम्मच षहद में कुछ बूंदे नीबू का रस मिलाकर फेष में लगाने से

1 चम्मच गुलाब जल, 1 चम्मच कच्चा दूध,दो-तीन बूंद नीब का रस लगाकर फेस पर लगाने से चेहरे की चमक बरकरार रहती है।

खीरे को पीसकर उसके रस को फेष पर लगाने से आईली स्कीन को फायदा मिलता है।

धूप में जो काले निषान हटाने के लिए टमाटर को काटकर उसमे चावल का आटा मिलाकर लगाने से काले निषान मिट जाते है।

आंॅखो मं डार्क सर्कल : Beauty Parlour

1 चम्मच बादाम तेल 2. विटामिन ई केप्सुल 3. लेमन एसेंस 4. कैलेस्टरोल आईल 5. जोजोबा आईल इन सबको मिक्स कर लगाने से डार्क सर्कल दूर होते है और झुर्रियाॅं दूर होती है।

मात्रा:- बादाम तेल 25 मिली., विटामिन ई केप्सुल 1, लेमन एसेंस 3 बूंद , जोजोबा आईल 3 बूंद, कैलेस्टरोल आईल 3

हर्बल फ्रूट एंड वेजेटेबल से फेष को निखार लाना/कसावट लाना, चमक लाना

  1. नीबू का रस और ग्लीसिरिन बराबर मात्रा में लगाने से निखार आता है।
  2. आईली स्कीन वालों को खीरा का रस को निचोड़कर फेष में लगाना चाहिए इससे आईल फेष में कम होता है।
  3. खीरे के रस से झाईयां दूर होती है।
  4. टमाटर का रस चीनी के साथ मिलाकर लगाने से झाईया हट जाती है।
  5. आलू के रस में दो बूंद गुलाब जल दो बूंद नीबू के रस को मिक्स कर लगाने से जंदपदह दूर होता है।
  6. नीबू के टुकड़े में चीनी मिलाकर लगाने से जंदपदह दूर होता है।
  7. संतरे के छिलके को सुखाकर पाउडर बनाकर उसमें कच्चा दूध मिलाकर लगाने से फेस में निखार आता है।
  8. आईली के लिए गुलाब जल और सुखा स्कीन के लिए मिल्क ।
  9. रोजाना मौसंबी/संतरा/अनार का जूस पीने से निखार आता है।
  10. केला और षहद मिक्स करके फेस में मसाज करने से फेस में चमक आता है।
  11. मसूर की दाल धोयेंगे, पीसेंगे और दूध में मिलाकर लगाते है इससे स्कीन गोरी हो जाएगी।
  12. एलुवेरा जेल, विटामिन ई कैप्सुल एवं रोस वाटर मिक्स कर रात मे लगाना चाहिए इससे चेहरे में चमक आता है निखार दिखता है।

त्वचा की परत:- Beauty Parlour

  • Epidermis
  • Dermis
  • Hypodermis

Epidermis – यह हमारी स्कीन की सबसे बाहरी परत होती है, यह त्वचा कि महत्वपूर्ण परत है ,इसमे हमे बाहर से पोषक तत्व मिलता है और डेड सेल्स बाहर निकालता है।

Dermis – यह हमारी स्कीन की दूसरी परत होती है, इसमे सेल्स होती है, जिसमे फेषियल स्क्रब करने से डेड स्कीन सेल्स रिमूवेल होता है

Hypodermis – यह हमारे स्कीन की अतिम परत होती है इसमे हमे अदर से पोषक तत्व मिलती है।


Types of Skin (त्वचा के प्रकार )

ड्राई स्कीन – इसमे स्कीन में नमी की कमी होती है, यह पतली स्कीन होती है, इस प्रकार के स्कीन को टच करने से निषान आ जाती हैं।

आॅईली स्कीन – आॅइली स्कीन में नमी अधिक होती है, स्कीन नरम होती है, स्कीन मे चिपचिपाहट होती है छिद्र खुला होता हैं।

नारमल स्कीन – इसमे स्कीन न ज्यादा आॅइली होती है न ज्यादा ड्राई होता है, इसे नारमल स्कीन कहते है, इसे छूने से मोटा लगता है।

काॅम्बीनेषन स्कीन – इस प्रकार के स्कीन मे आईली और ड्राई दोनो होता है।

सेनसेटीव स्कीन – धूप में जाने पर स्कीन रेड हो जाता है, तथा कोई भी केमिकल आसानी से इस स्कीन पर उपयोग नहीं कर सकते,यह स्कीन अधिक पतली होती है, धूप में रेड हो जाती है ।

Beauty Parlour Thermo Herb Facial (थर्मोहर्ब फेषियल)

थर्मोहर्ब फेषियल के बारे में आप जानते होंगें यह एक फेषियल होता है, यह रिंकल्स हटाने में सर्वोत्तम फेषियल माना जाता है।इस फेषियल से फेष की रिन्कल्स साफ हो जाता है, थर्मोहर्ब फेषियल 30 वर्ष से अधिक उम्र की महिलाओं के लिए बहुत लाभकारी होता है। इससे फेष की ढीली स्कीन में कसाव आता है, और रिन्कल्स दूर हो जाते है।
विधि: –
थर्मोहर्ब फेषियल फेषियल करने से पहले चेहरे को क्लीनसिंग मिल्क (डीप क्लीनसर )से साफ करें फिर विटामिन ई युक्त क्रिम से फेषियल किया जाता है, अधिक ड्राई स्कीन हो तो, आधे घण्टे तक मसाज दे सकते है, इसमें स्कीन टोनर का उपयोग नही करते है। इसके बाद भाप देकर ब्लाक निकाले और फिर थर्मोहर्ब मास्क लगाए, थर्मोहर्ब मास्क लगाने से पहले चेहरे पर क्रिम की परत लगा दें,विटामिन ई युक्त क्रिम । ताकि फेष पर चिकनाई बनी रहें, फिर फेष पर सिट मास्क लगा दे एक बड़े बाउल में थर्मोहर्ब डालकर गुलाब जल के साथ अच्छी तरह से मिक्स कर लें,पेस्ट तैयार कर ले ओर फेष पर जल्दी जल्दी लगाए याद रखें कि ये मास्क आंखो के नीचे बालो और आईब्रो में न लगाए, गलती से अगर लग जाए तो तुरंत हटा दें,नही ंतो बाल काटने पड़ सकते है।इस पेस्ट को जल्दी जल्दी लगाए नहीं तो ये पत्थर बन जाएगा,30-35 मिनअट बाद चेक कर ले,कि मास्क सूख गया कि नहीं सूख जाने पर मास्क हटाये इसके बाद फेष को स्पेन्ज से साफ करे, और मोस्चोराइजर लगाए ।

उपकरण:-

  1. Parlour chair
  2. Big Bowl
  3. Paik Brush
  4. Tharmo mask
  5. Rose water
  6. Sit mask
  7. Moisturiser lotion
  8. Lotion

सावधानीयां:-

  • थर्मोहर्ब मास्क पटटी या मास्क सीट के साथ ही लगाना चाहिए
  • मास्क लगाते समय ध्यान रखें कि मास्क बालों पर न लगें
  • थर्मो मास्क लगे होने पर न बात करनी चाहिए और न हिलना चाहिए नही ंतो मास्क टूट जाएगा।
  • थर्मोहर्ब मास्क 1 महीना में एक बार ही करना चाहिए ।


लाभ:-

  • इससे आपकी स्कीन टाईट और ष्षाइनिंग होती है।
  • झुर्रिया कम होती है।
  • ग्लोइंग होती है।
  • स्कीन से एज (उम्र)का पता नहीं चलता ।
  • स्कीन गोरा होता है।
    टिप:- 1. स्कीन में टोनर का उपयोग नहीं करना चाहिए । 2. फ्रैट क्रिम से ड्राय स्कीन वालो का आधे घण्टे तक मसाज करेंगें।

फेसियल (Facial) : Beauty Parlour


फेसियल यह प्रक्रिया है हमारे फेष खिल उठता है डेड स्कीन हट जाता है कालापन हट जाता है ब्लड सरक्यलेषन होता है जिससे फेष में निखार एवं चमक आता है इसे महिने मे एक बार जरूर करायें।

फेसियल के लिए उपकरण:- Beauty Parlour

  • बाउल
  • टावेल
  • काॅटन
  • एफ्रान
  • फेषियल बेल्ट
  • ब्लैक एड पिन
  • पैक ब्रष
  • फेषियल किड्स
  • स्प्रे
  • पनी
  • टोनर
  • गुलाब जल
  • टिसु पेपर

विधि:-

  • ग्राहक को आराम दायक कुर्सी देना।
  • एफ्रान एवं फेसियल बेल्ट लगाएगें।
  • खुद भी एफ्रान पहनेंगे।
  • हाथों मे एस्टरीजेंट लगायेंगे।

क्लीनिंक मिल्क से मसाज करेंगे 5 मिनट तक मसाज करेंगे फिर स्पेन्ज की सहायता से निकाल लेंगे स्क्रब मसाज करेंगे 5 मिनट फिर स्पीन्ज की सहायता से फेष को क्लीन कर देंगे स्क्रब के बाद ब्लैक हेड्स निकालेंगे और व्हाइट हेड नोष को नि कालें गे काॅटन की सहायता से टोनर लगा देंगे मसाज क्रीम और जेल लेकर एक साथ मिक्स कर मसाज करेंगे 10 मिनट तब फिर मसाजर मषीन से 3 मिनट तक मसाज करेंगे। फिर फेष पोछकर फेष पैक लगाएंगे ब्रष के द्वारा उपर की तरफ फेष पेक सुखने पर पानी से हल्के हाथों से मसाज कर निकालेंगे यह प्रक्रिया 45 मिनट का होता है।

फेसियल के स्टेप:- Beauty Parlour

  • गाल में गोला बनाते हुए उपर की ओर लिप्ट करते हुए एवं नीचे फिसलाते है।
  • गाल पर हथेली का दबाव डालते हुए मसल्स खीचते हुए मसाज करेंगे।
  • दोनो हाथों की उंगलियो की सहायता से कान के बगल से उपर खीचते हुए मसाज करें।
  • दाढ़ी वाले हिस्से पर कैची से कट करें।
  • उंगलियो से मसाज करें।
  • हसने से दोनों साइड चिन्ह बनते है वह एन्टीक्लाक वाइस और क्लाक वाइस अप लिप करते हुुए मसाज करें।
  • नाक के उपर पहली उंगली से उपर की तरह मसाज करंे।
  • नाक के पास षुरू करके आंख की नीचे- उपर गोला बनाकर मसाज करें।
  • आंख के नीचे सर्कल मसाज करना है उसे हमेषा उपर ही मसाज करना है।
  • आंख के उपर सर्कल मसाज ।
  • आंखो के उपर नीचे हल्का मसाज करना।
  • आंखो को क्रास मसाज करना।
  • आंखो की पुतली को अनामिका उंगली से हल्के हाथों से मसाज।
  • आई ब्रो की अंगूठे व पुतली उंगली से प्रेषर करते हुुए मसाज करना।
  • दोनों आंख के साइड 8 का आकार बनाना है।
  • माथे के बीच टेंषन पाइंट को 2 उंगलियों से क्रास करें।
  • टेंषन पाइंट के पास से माथे को दो भागों में बाटकर उंगलियों की सहायता से सर्कल मसाज करें।
  • दो उंगलियों के बीच उंगली फसाकर माथे का मसाज करें।
  • माथे पर 8 बनाते हुए कनपटी तक ले जाएॅं मसाज करते हुए।
  • माथे पर उपर लिप्ट करते हुए मसाज करें।
  • टुड्डी के नीचे भाग की मसाज करें।
  • बोर्न को दबाते हुए मसाज करें।
  • गले पर क्रिष क्राष करें।
  • कंधे पर सर्कल मसाज नीचे लिप्ट करते हुए
  • पीठ पर बटर फ्लाई स्ट्रोक
  • चिमटी काटना।
  • थपथपाना।

टीप:-

  • फेसियल सभी प्रकार के स्कीन को किया जा सकता है ।
  • किन्तु बहुत अधिक पिंपल वाले फेष पर फेषियल नहीं करना चाहिए।

लाभ:-

  • फेष मे चमक एवं निखार आता है।
  • ब्लड सरक्युलेषन ठीक रहता है।
  • स्कीन गोरी होती है।,
  • स्कीन साफ्ट होती है।
  • प्ीलिंग क्रीम से ब्लैक हेड और व्हाइट हेड निकलते है।


सावधानियांॅ:- Beauty Parlour

  • एक्सपायरी देख कर उपयोग करना।
  • स्क्रब के दाने नहीं छुटना चाहिए।
  • पीलिंग क्रीम से सावधानी पूर्वक ब्लैक हेड या व्हाईट हेड निकालना है।
  • पेक को अच्छे से मसाज करते हुए निकालना चाहिए, नही ंतो स्कीन खीचता है।

स्कीन की देखभाल:- Beauty Parlour

  • रोजान 8-10 गिलास पानी पीना चाहिए।
  • सुबह जल्दी उठकर चलना व योगा करना चाहिए।
  • सुबह खाली पेट नीबू पानी पीना चाहिए।
  • धूप मे निकलने से पहले स्कीन में संस लोषन लगाना चाहिए और फेष को कव्हर करके निकलना चाहिए जिससे स्कीन काला ना पड़े।
  • हर हफ्ते अच्छे प्रोडक्ट से स्क्रब करना चाहिए।
  • रूखी त्वचा वाले क्लीनिंग मिल्क से फेष साफ करें।
  • मेकअप करके कभी नहीं सोना चाहिए इससे स्कीन डल हो जाती है।
  • आईली चीजे ज्यादा नहीं खाना चाहिए ।
  • ज्यादा से ज्यादा फल एवं जूस पीना चाहिए इससे हमारी ताजगी बनी रहेगी।
  • अच्छे ब्रांडेड कंपनी के क्रीम उपयोग करना चाहिए लोकल चींजे उपयोग नहीं करना चाहिए इससे हमारी त्वचा नुकसान नहीं होगा।
  • रोजाना मोइस्टोराइजर लगाना चाहिए।

अरोमा थेरेपी और पींपल उपचार : Beauty Parlour

अरोमा का अर्थ है खुष्बु व थेरेपी का मतलब है उपचार, खुष्बु से उपचार अर्थात यह एक औशधी उपचार की प्रक्रिया है, जिसमें कई पौधों से अहम तत्व निकालकर उसका प्रयोग लोगो के इलाज मे होता है इस थेरेपी में कई तरह के तेल पानी की भाप कुछ सुगंधित मिश्रण आदि का स्तेमाल मालिष और नहाने के लिए किया जाता है, अरोमा थेरेपी त्वचा व बालों के लिए उपयोगी है, मन को स्वस्थ रखती है, थेरेपी से एसेंससियल तेल का उपयोग किया जाता है जो फूलों, पत्तो, पौधो से बनाया जाता है यह थेरेपी दिमाग की कार्यविधि को बढ़ाती है त्वचा को प्रकृति के अनुसार थेरेपी दी जाती है, सुगंधित फूलों के साथ तेल की मालिष से तनाव तुरंत गायब हो जाता है इससे षरीर में ऊर्जा संचार होता है। मस्तिश्क मे इन सुगंधो को पहचानने वाले नर्मस होते है, ये नर्मस सुगंध के कारण मस्तिश्क को इनटेजिटिक बना देते है, यह फेष की चमक निखारता है तथा कील, मुहासे, पींपल को भी ठीक करता है त्वचा पर होने वाली खुजली और घमोरियों से भी बचाता है।
बाल
मनुश्य के सिर पर बाल मुकुट की तरह होते है, बाल सुंदरता में वृद्धि करते है, बाल मुख्य रूप से प्रोटीन कैराटिन से निर्मित होते है।

बाल की स्कीन के तीन लेयर होते है –


  • Cutical
  • Corstic
  • Medula

Cutical – कट्टीकल बाल की स्कीन का प्रथम लेयर है।

कोरस्टीक – यह बाल का दूसरा लेयर है, और बाल का प्रोटेक्षन करता है इसमें पाये जाने वाले मेयलिंग नाम का पदार्थ बाल को कलर प्रदान करता है।

मेडुला – यह बाल की स्कीन का तीसरा लेयर है यह कट्टीकल तथा कोरस्टीक को पोषक तत्व की पूर्ति करने का कार्य करता है, आमतौर पर यह पतले बाल में दिखाई देते है।

बाल के प्रकार

  • हल्का घुंघरालु
  • घुंघरालु
  • सीधा
  • सीधा और घुंघरालु मिक्स

नोट:-

  • सीधा बाल के लिए वेवी कट बहुत अच्छा होता है।
  • ज्यादा घुंघरालु बाल के लिए यु कट सीधा कट कर सकते है।
  • सीधा बाल में लेयर कट, लेषर और लेवल कट अच्छे लगते है।

बाल कटिंग


वह प्रक्रिया जिसमें हम अपने बाल को कट कर आकार देते है-
जैसे:-

  1. U cutting
  2. Layer cutting
  3. Stright cutting
  4. V cutting
  5. Deep U cutting
  6. Laiser cutting


समग्री:-

  • कटिंग कुर्सी
  • अफ्रान
  • स्प्रे बाटल
  • कैची
  • घुमाऊ कंघी / सामान्य कंघी
  • ड्रायर
  • डिवायडर पिन (काप पिन)

विधि:-

  • सबसे पहले सीधा मांग निकालकर सामने कटिंग कुर्सी में बिठाएंगे।
  • एफ्रान पहनाये व खुद भी पहने।
  • अस्टरीजेन्ट लोषन लगाये।
  • स्पे्र बाॅटल से बालों मे स्प्रे करेंगे फिर बालों को कंघी से सीधा करेंगे।

डीप यु कटिंग विधि:- सीधा मांग निकालेंगे सामने कान से कान दो भागों मे डिवाइड करेंगे पीछे के बाल को 5 भागों मे डिवाइड करेंगे, बीच से बाल लेंगें कटिंग के लिए 30 डिग्री में काटना है दूसरा थोड़ा सा गाइड लाइन के लिए बाल लेंगें 3,4,5 लेयर 30 डिग्री में काटना है।

बालों को कलर : Beauty Parlour

सामग्री:-

  1. 1 बाउल हीना पाउडर
  2. आधा बाउल मेथी पाउडर
  3. आधा चम्मच इफ चाय
  4. आधा चम्मच काफी
  5. 1 चम्मच आवला का चूर्ण
  6. 1 चम्मच सिकाकाई का चूर्ण
  7. 1 अंडा
  8. 2 चम्मच दही

विधि:-

1 चम्मच चायपत्ति आधा कटोरी पानी में उबालना है, जब तक वह पानी आधा कटोरी न रह जाए, फिर उस पानी को ठण्डा कर लेंगे, उसके बाद पानी में अण्डा एवं दही को छोड़कर समस्त सामग्री मिलाकर वे फेंटकर आधा घण्टे के लिए भिंगोकर रख दे, बा लमे इसे लगाने से पहले अण्डा व दही व नीबू का रस मिलाकर फेंट लें फिर बालो मंे लगाए डेढ़ से दो घंटा तक लगातार रखे फिर हल्का गुनगुने पानी से धो ले।
नोट:- अगर रूखे बाल हो तो अण्डे का पीला हिस्सा और आईली हो तो व्हाईट वाला भाग मिलाये

हीना लगाने के फायदे:-

  • हीना का असर ठंडा होता है, अर्थात गर्मियों में इसमें ठण्डकता मिलती है।
  • हीना एक अच्छा कंडीसनर है।
  • हीना करने से बालों का झड़ना रूकता है।
  • बालों में चमक आती है।
  • गंजेपन की रोकथाम में लाभप्रद है
  • सिरदर्द में लाभकारी है।
  • ज्यादा ब्डल प्रेषर में फायदा करता है।

हीना लगाने नुकसान:-

इसको लगाने की विधि लंबी प्रक्रिया है।

यह बालों को लाल कर देता है।

तासीर के लोगों के लिए अच्छी नहीं है मेंहदी लगाना।

सिर मसाज:-Beauty Parlour


सिर के मसाज को हेड मसाज कहते है।-

सामाग्री:-

  • हेयर टाॅनिक आॅइल
  • एफराॅन
  • पार्लर चेयर
  • बाउॅल
  • काॅटन
  • काम्ब

मसाज काम्ब

परिभाशा: – हेयर के मसाज को हेड मसाज बोलते है

विधि:-

  • सबसे पहले ग्राहक को एफ्रान लगाकर एक बाउल मे हेय टाॅनिक या आईल लेते है फिर काॅटन से पूरे हेयर की जड़ में लगाते है उसके बाद मसाज षुरू करतेे है।
  • दोनों हाथों के अंगुठे को एक जगह स्थायी रखकर उंगली की सहायता से गोला बनाते है, फिर सिर की मालिष करते है।
  • एक हाथ से सिर को पकड़कर दूसरे हाथ की हथेली की सहायता से सम्पूर्ण सिर की मालिष करना।
  • अंगूठे सहित सम्पूर्ण उंगलियों से सिर का टोचन करना।
  • दोनों कनपटियों के पास से बालों की हथेली से पकड़कर पीछे की तरफ हल्का सा खींचते हुए सिर पर दबाव डालना।
  • सिर पर दोनों हाथों को जोड़कर हल्का-हल्का सिर पर मारना। (चम्पी करना)
  • मसाजकर कंघी चलाना।
  • अंत में चिमटी काटना फिर थपथपाना है।
  • 10 मिनट के लिए रिलेक्स होने के लिए छोड़ देना ।
  • भाप देना है, जिससे तेल सिर के अंदर अवषोशित हो जाए।

सिर मसाज के लाभ

  1. खून का दौड़ान लगातार बना रहना।
  2. बालों का झड़ना रूकता है।
  3. दिन भर की थकान से मुक्ति मिलती है।
  4. सिर व माथे की नष को आराम मिलता है।

सिर मसाज के लिए तेल

  1. दो चम्मच नारियल का तेल।
  2. दो विटामिन ई कैप्सुल।
  3. कैस्ट्रोल आईल।
    ये तीनो मिक्स कर कटोरी में हल्का गुनगुना करके सिर पर लगाना है, इससे बालों को अधिक लाभ मिलता है, बालों का झड़ना रूकता है।

बाॅडी मसाज /बाॅडी पालिष
बाॅडी पालिषः-
आपने अक्सर चेहरे की खुबसुरती बढ़ाने के लिए मेकअप का उपयोग किया होगा, लेकिन आज हम पूरी बाॅडी स्मार्ट एव ंचमक देने के लिए बाॅडी पालिष करते है।

बाॅडी पालिष की सामग्री:-

  • बाॅडी पालिष कीट
  • पार्लर बेड
  • भाप मषीन
  • बाउल बड़ा साईज
  • पेक ब्रष
  • अरोमा कीट / नेच कीट
  • फेषियल बेल्ट

विधि:-


बाॅडी पालिष में सबसे पहले डेड सेल को लगाने के लिए स्क्रबिंग की जाती है स्क्रबिंग के बाद भाप फिर स्कीन पर बाडी क्रीम सायनर के द्वारा मसाज की जाती है, आईली स्कीन के लिए ‘सी‘ साल्ट का उपयोग किया जाता है। और सुखा स्कीन वालों के लिए ब्राउन षुगर और जोजबा तेल को विटामिन ई कैप्सुल के साथ मिक्स कर पाॅलिस की जाती है नार्मल स्किन लिए काॅफी षुगर या राईस का चोकर फायदेमंद है इसमें एसेसियल आईल के साथ मिक्स कर बाॅडी मसाज की जाती है, बाॅडी की क्लीजिंग स्क्रबींग और मसाज के जरिये स्कीन के रोमछिद्र खुल जाते है, पैक लगाने के 20 मिनट बाद स्कीन को साफकर उस पर एस.पी.एफ. क्रीम लगायी जाती है बाॅडी पालिस में आपको 2 घंटे का समय लगता है।
नोट:- एस- सन , पी- प्रोटेक्षन, एफ- फेष, सी- क्रीम

बाॅडी मसाज तेल से : Beauty Parlour

  • दो चम्मच जैतुन का तेल।
  • तीन चम्मच ब्राउन षुगर मिक्स कीजिए।
  • आटोमिल्स भी मिलाईये तीनों को मिक्स कर हल्के हाथों से पूरी बाॅडी में 5 से 10 मिनट मसाज करेंगे मसाज करने के बाद 1 घण्टे के लिए छोड़ देंगे बाद मे वाष कर देंगे।

लाभ:-

  • बाॅडी पालिष कराने से पूरे स्कीन में चमक आती है।
  • खून सरक्युलेषन बड़ता है।
  • बाडी पालिस से झुर्रियाॅं नहीं होती।
    बेबी कट
  • छोटा बेबी कट
  • लंबा बेबी कट
  • ब्लैंट कट
  • मासरूम कट
  • बेबी कट

हर्बल तरीके से बालों का ध्यान


  • हर किसी के व्यक्तित्व खुबसुरती उसके सिर के बालों से बढ़ जाती है, असंतुलित खान- पान तनाव भरी जिंदगी, धूल मिट्टी, प्रदूशण और केमिकल्स युक्त हेयर प्रोडक्ट ने सिर के बालों का दम निकालकर रख दिया है।
    बालों के बचाव के लिए हर्बल उपचार
  • जैतून तेल पोशक तत्वों से भरपूर होता है वह बालों से जुड़ी समस्याओं के लिए फायदेमंद साबित हुआ है, जैतून का तेल बालों की दोमुहे होने की समस्या और झड़ने की समस्या को दर करती है।
  • नारियल का तेल बालों के लिए नारियल का तेल भी लाभकारी माना जाता है, इसमे माजूद फेटीएसिड विटामिन और खनिज बालों को पोशक देने का काम करते है, यह बालों को झड़ने से रोकने के साथ-साथ सूर्य की पराबैगनी किरणों से बचाने में मदद करता है।
  • बादाम का तेल भी बालों के लिए अच्छा माना जाता है, बादाम का तेल फेटीएसिड का अच्छा स़़्त्रोत है फेटीएसिड बालों के विकास को बढ़ाने में मददगार माने जाते है।
  • अण्डा- अण्डा बालों के लिए अच्छा कण्डीषनर है।
  • षहद एवं जैतून तेल – डैमेज बाल के लिए षहद एवं जैतून तेल का मिक्स कर लगाने से डैमेज बाल को लाभ मिलता है।
  • नीबू व जैतून तेल – 2 चम्मच नीबू का रस व 2 चम्मच जैतून का तेल मिक्स कर लगाने खुजली में राहत मिलती है डैंडरफ भी दूर होता है।
  • एलुवेरा, विटामिन ई कैप्सुल मिक्स कर लगाने से बालो का लंबाई बढ़ता है। रूखे बाल में जान आ जाती है।
  • प्याज का रस – प्याज के रस में जैतून का तेल मिक्स कर लगाने से बालों की लंबाई बड़ती है।
  • रूखे बालों में जान लाने के लिए अण्डा एवं जैतून तेल मिक्स कर लगाएंगे।

बाॅडी मसाज : Beauty Parlour


यह वह प्रक्रिया है जिसमें बाॅडी की थकान दूर होती है, दर्द कम होता है फ्रेष महसूस होता है।
जैसे:- सिर, कमर आदि के दर्द दूर होते है एव ंहम रिलेक्स महसुस करते है।
बाॅडी मसाज तेल से होता है और बाॅडी पाॅलिष क्रीम से होता है।

विधि:-

  • प्रेशर पाइंट दबाव के साथ करना
  • कमर से कंधे तक की मसाज
  • बंद मुट्ठी मसाज
  • हाथों से थपथपी
  • गोलाकार मसाज

मसाज के लाभ

  • बाॅडी मसाज से थकान दूर होती है।
  • बाॅडी में चमक आती है।
  • खून का दौड़ान लगातार होती हैे।
  • बाॅडी मे कसाव आता है।
  • स्कीन में चमक आता है।
  • धूप से जो बाडी में काले निषान होते है, दूर होती है।
  • इसमें गंदगी दूर होती है।
    बाॅडी मसाज के लिए तेल
  • सरसों का तेल
  • जैतून का तेल
  • नारियल का तेल

बाॅडी मसाज की विधि

  • पैरो के हिल को प्रेषर देना
  • पैरों को नीचे से ऊपर, फिर ऊपर से नीचे देकर मसाज करेंगे।
  • पीठ के पास नीचे से ऊपर प्रेषर देना है।
  • फिर गोलाकार बनाकर पीठ को मसाज करना है मुट्ठी बंद करके इस प्रक्रिया को 5 से 10 बार करेंगे।
  • फिर हाथों को पिछे ले जाकर गोला बनाते हुए मसाज करेंगे।
  • पैरों को ऊपर नीचे ले जाकर मसाज करेंगे।
  • दोनों पैरो को एक्स आकार में मोड़कर मसाज करेंगे।
  • हाथों की उंगलियों को दबाकर प्रेषर देंगे।
  • पीठ पर मुट्ठी बंदकरके पाइंट प्रक्रिया में मसाज करेंगे।
  • यह प्रक्रिया आधे घंटे का होता है।
  • अंतिम चरण में तेल से मसाज करेंगे मसाज के 15 मिनट बाद नहा लें।

बालों को सीधा एवं मुलायम करना : Beauty Parlour


रिवांइडिंग वह प्रक्रिया है, जिसके तहत रसायनों का स्तेमाल करके बालों को सीधा किया जाता है, इस प्रक्रिया के बाद बाल लम्बे समय तक सीधे रहते है, इस पूरी प्रक्रिया मे 5 से 6 घंटे लगते है। रिवांइडिंग एवं स्मूथींग एक ऐसा उपचार है, जिससे बाल सीधे और मुलायम हो जाते है, बाल स्मूथ बालों को नेचुरल चमक एवं मुलालय बनाये रखने का एक अच्छा तरीका है, ये बालों को दो मुहा औ डल होने से बचाता है।

गुण:-

इससे घुंघरालु बाल को लंबे समय तक सीधा रख सकते है।

बालों में चमक आती है।

बालों में चमक एवं मुलायम आती है।

हानि:-

लंबे समय तक केमिकल प्रोडक्ट उपयोग करने से हमारे बाल को नुकसान पहुचता है।,

बाल झड़ता है।


बाल कलर : Beauty Parlour


बालों का कलर वह प्रक्रिया है जिसमें बालों को जड़ से टिप तक बालों को ब्लैक या गोल्डन किया जाता है, उसे बालों का कलर कहते है।
जैसे बाजार में बहुत से कलर उपलब्ध है-

  • ब्राउन
  • रेड
  • ब्राउन
  • ग्रे
  • ब्लैक

सामग्री:-

  • पार्लर कुर्सी
  • एफ्रान
  • पेक ब्रष
  • कलर ब्रष
  • हैण्ड ग्लो
  • कलर

विधि:-

  • सबसे पहले ग्राहक को पार्लर कुर्सी में बिठाएंगे।
  • एफ्रान पहनेंगे व पहनाऐंगे।
  • हम हैंड ग्लो पहनेंगे।
  • बालों को दो भागों में डिवाइड करेंगे स्प्रे करेंगे और दो भागों में सुलझाऐंगे। फिर बीच वाले भाग को गोला बनाकर बालों का एक लेयर निकालेंगे।
  • हाथों की सहायता से कलर को जड़ो से लेकर टीप लगाऐंगे।
  • एक-एक लेयर लेकर कलर लगाते रहेंगे बालों में जड़ से टीप तक।
  • फिर बालों को कलर करने के बाद जुड़ा बना देगे।
  • डाई को 30-35 मिनट तक रखना है, फिर साफ पानी से बाल को धोना है।

लाभ:- Beauty Parlour

  • सफेद बाल काले हो जाऐगे।
  • बालों में चमक आता है।
  • बाल सुन्दर दिखते है व
  • दो मुहे बाल ठीक हो जाते है।
  • बाल सिल्की और मुलायम हो जाऐेंगे।

हानि:-

  • चुंकि बाल कलर केमिकल प्रोडक्ट है इसे बार-बार उपयोग करने से बाल झड़ने लगते है।
  • बाल कलर से आॅखों में परेषानी आ सकती है।
  • बालों का ग्रोथ रूक सकता है।
  • ज्यादा केमिकल वाले बाल कलर से कैंसर का भी खतरा हो सकता है।

हेयर डाई : Beauty Parlour

  • पूरे बाल को कलर करना।
  • पूरे बाल को हल्का लाल करना।
  • पूरे बाल में एक-एक लेयर लेकर कलर करना हाईलाईट है।

ग्लोवल

ग्लोवल एक ऐसी प्रक्रिया है, जिसमें हम बालों को मनचाहे कलर दे सकते है।

वालुम 20 प्रतिषत में केमिकल की मात्रा कम होती है इसलिए इसका प्रयोग हेयर डाई में किया जाता है रूट को कोई नुकसान नहीं पहुचता।

वालुम 30 प्रतिषत में केमिकल की मात्रा 20 प्रतिषत से अधिक होती है इसलिए इसका प्रयोग ग्लो या हाईलाईट में किया जाता है 20 प्रतिषत से अधिक होने के कारण रूट को आधा इंच छोड़ कर किया जाता है 20 प्रतिषत से अधिक होने के कारण रूट को नुकसान पहुचाता है इसलिए 30 प्रतिषत वेल्यु का प्रयोग कम किया जाता है।

40 वालुम में केमिकल की मात्रा बहुत अधिक होती है इसलिए इसका प्रयोग हाईलाईट के लिए ही किया जाता है हाईलाईट को करने के लिए रूट को 2 इंच छोड़कर करेगे।

हाईलाईट

हाईलाईट वह प्रक्रिया है जिसमें बालों को लेयर से लेयर लगाना है उभार लाना।

हाईलाईट मे ग्लैण्डर पाउडर का उपयोग होता है यह ब्लीच की तरह होता है ग्राण्डर पाउडर बालों को हाईलाईट करने के प्रयोग मे आता है।
हाईलाइट करने की मात्रा

  • 100 वालुम डेवेलपर
  • क््रीम 50 प्रतिषत

हाईलाईट वह प्रक्रिया है जिसमे ग्राहक के च्वाइस अनुसार सामने के कुछ एक बाल को कलर किया जाता है, इस प्रक्रिया को हाईलाईट कहा जाता है।

सामग्री:-

  • पार्लर कुर्सी
  • एफ्रान
  • बउल
  • ग्लब्ज
  • पेक ब्रष
  • ब्लेण्डर पाउडर
  • डेवेलपर
  • कलर
  • गंघी

विधि:-

  • सबसे पहले ग्राहक को कुर्सी मंे बिठायेंगे।
  • एफ्रान पहनेंगे व पहनाऐगे
  • ब्यूटिषयन हाथों में ग्लब्ज पहनता है।

एक बाउल में ग्लेन्डर और डेवेलपर को मिक्स करेंगे और इसमे डेवेलपर की मात्रा अधिक होना चाहिए और ब्लेन्डर पाउडर की मात्रा कम होनी चाहिए और कंघी से सामने के बाल को लेयर से लेयर लेंगे, उसमे मिक्स किया गया पेक को ब्रष की सहायता से बालों में पेक को लगाऐगे। क्रीम लगे हुए बाल को सिल्वर पेपर से लपेटकर पेक कर लेगें फिर इसे आधा घंटे के लिए छोड़ देंगे और आधे घंटे के बाद पानी से धो देंगें।

स्पा : Beauty Parlour

यह एक लैटिन षब्द है इसका अर्थ मिनरल से भरे पानी से स्नान करना, स्पाॅ से षरीर को राहत या रिलैक्स महसुस देने के लिए मसाज का उपयोग किया जाता है स्पा में कई तरह बाॅडी एवं हेयर मसाज किया जाता है स्पा षरीर को रिलैक्स करने का तरीका होता है, जिसमे आयुर्वेदिक तेलों के माध्यम से मालिष के अलावा जड़ी बूटियों का लेप करके षरीर के सभी अंगों को आराम दिया जाता है, स्पा की अलग -अलग प्रक्रियाओ में अलग तरीके से षरीर को दर्द, थकान से छुटकारा दिलाया जाता है स्पाॅं आयुर्वेदिक थेरेपी भी उपयोग की जाती है।
स्पा कैसे करते है:-
स्पा में सबसे पहले तेल का उपयोग करते है, इससे पूरी बाॅडी को साफ किया जाता है मसाज करते है, इसके बाद नेचुरल औशधि से बनाये गए स्टोन बाथ या टब में डुबाते है।

लाभ:-

स्पा कराने से बाॅडी में चमक आती है।

स्पा कराने से षुगर, अस्थमा, कमर दर्द आदि बिमारियों का ईलाज कर सकते है।

साल में 3 बार स्पा कर सकते है।

स्पा के प्रकार:- Beauty Parlour


मिन्ट स्पा:-


यदि बाल कमजोर हो तो मिन्ट स्पा फायदेमंद होता है, इससे बालों को मजबूती मिलती है और दिमाग में षीतलता पहुचती है।

आर्युेदिक स्पा:-


मिगरर, सर्दी और छाती में दर्द की षिकायत हो तो यह स्पा लाभदायक है यह पेट से स्टैण्ड बाॅॅडी तक मसाज करके बाॅडी तक ऊपर की ओर मसाज करके अनावष्यक ऊर्जा को बाहर निकालते है, इसके साथ ही नाक के छिद्रो मे औशधि से फूक मारते है।
नोट:- यह स्पा मुख्यतः गर्मी व षर्दी के दिनों में किया जाता है।


स्पा की विधि:-


सबसे पहले गुनगुना गर्म पानी से स्नान करना है स्क्रब करना है, इसके बाद बाॅडी में क्रीम से मसाज करते हुए बाडी के हाई या एरिया या सख्त जगह, घुटना, एड़ी या कोहनी से पूमिक स्टोन से डेड स्कीन को निकालेंगे फिर स्टीमर से भाप देंगे।
भाप लेने की प्रक्रिया के 10 मिनट बाद तेल से मसाज करेंगे, गुनगुने पानी से नहायेंगे साबुन के बिना, फिर तौलिए से बाॅडी को सुखा लेगें फिर बाडी में टोनर लगायेगे फिर बाडी स्पा कराने के बाद धूप में जाना पड़े तो बाॅडी में सनलोषन लगा लेंगे।

लाभ:-

बाॅडी को नमी मिलती है।

बाॅडी का कालापन नहीं रहता।

बाॅडी को आराम मिलता है।

Waby Hair को Straight करनाः- Beauty Parlour


बालों को सिल्की एवं स्मूथ एवं साइनिंग देने के लिए Oxyglow Professional Hair Straightening Creame का उपयोग किया जाता है। यह क्रीम मैनेज करने के योग्य बालों को Straight कर सकती है, इसके अलावा यह वेवी बालों को भी कुछ हद तक Straight कर सकती है।

दोस्तों आपको यह जानकारी कैसा लगा, आप हमें निचे कमेंट करके जरुर बताये और आप हमारे वेबसाइट को Home पेज में जा कर लाल कलर के बेल या घंटे को दबा कर सब्सक्राइब कर सकते है और आप हमारे Telegram Channel में भी जुड़े जिससे आपको लेटेस्ट notification मिलता रहेगा साथ ही साथ आप इसे WhatsApp, Facebook सोशल मीडिया प्लेटफार्म में शेयर कर सकते है.

2 thoughts on “Beauty Parlour Course in Hindi |Beautician Course PDF Free Download सम्पूर्ण जानकारी हिंदी में.”

Leave a Comment