Bihan छत्तीसगढ़ राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन NRLM बिहान की सम्पूर्ण जानकारी

अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करे

Bihan (cg bihan) यह एक केंद्र सरकार की योजना है जिसमें महिलाओं को मुख्य रूप से स्वयं सहायता समूह के रूप में गठित करके उन्हें रोजगार और स्वरोजगार से जोड़ना है ताकि वह अपनी आजीविका आसानी से चला सके ग्रामीण आजीविका मिशन अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग नामों से जाना जाता है जैसे छत्तीसगढ़ में बिहान जिसे SRLM एसआरएलएम स्टेट रूरल लाइवलीहुड मिशन (SRLM – Sate Rural Livelihood Mission) के नाम से भी जाना जाता है

क्या है इस जानकारी में show

Bihan छत्तीसगढ़ राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन NRLM बिहान

Bihan – NRLM (National Rural Livelihood Mission) जिसे हिंदी में राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन कहा जाता है इसे ग्रामीण विकास विभाग, भारत सरकार ( Ministry of Rural Development (MoRD), Government of India ) द्वारा सन 2011 में लॉन्च किया गया था जिसे सन 2016 में दीनदयाल अन्त्योदय योजना – राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन DAY – NRLM (Deendayal Antyodaya Shceme – National Rural Livelihood Mission) के नाम से जाना जाता है इसका मुख्य उद्देश्य गरीबी को कम करना है

Bihan छत्तीसगढ़ राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन NRLM बिहान योजना के तहत ग्रामीण क्षेत्रों में निवासरत महिला एवं युवतियों को एक SHG (Self Help Group) स्वयं सहायता समूह के रूप में गठित किया जा रहा है और उन्हें प्रेरित कर स्वरोजगार के लिए जोड़ा जा रहा है

bihan

इन समूहों का गठन के लिए राज्य सरकार द्वारा NRLM के अंतर्गत सभी जिलों के जनपद स्तर पर कर्मचारी और अधिकारी नियुक्त किए गए हैं जो उन्हें आवश्यक मार्गदर्शन एवं समूह में किस प्रकार से कार्य किया जाना है सब जानकारी उन्हें प्रदान करते हैं और समय-समय पर उनकी बैठक लेकर उनकी समस्याओं को जानकर निवारण करते हैं

Source Bihan – http://bihan.gov.in/home.aspx

बिहान बाज़ार cg Bihan Bazar

बिहान बाज़ार समूह के महिलायों को एक प्लेटफार्म / सुविधा प्रदान करता है जिसमे वह अपने बनाये हुए प्रोडक्ट को बेच सकते है

bihan

बिहान लोगो जिसे हम बिहान की पहचान बोल सकते है जैसे की आप निचे देख रहे की बिहान Bihan logo में 10 महिलाए है और उसके उपर सूर्य का निशान है इस तरह यह लोगो एक उगता हुआ समूह को प्रदर्शित कर है जिसे छत्तीसगढ़ी में बिहान bihan कहा जाता है .

bihan

ये भी पढ़े – छत्तीसगढ़ के निशुल्क आवासीय प्रशिक्षण संस्थान आजीविका महाविद्यालयों (Livelihood Colleges ) की सूची

राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन Bihan का उद्देश्य

  • छत्तीसगढ़ राज्य के प्रत्येक ग्रामीण गरीब परिवारों से कम से कम 1 महिलाओं को स्वयं सहायता समूह से जोड़ना।
  • स्वयं सहायता समूह की महिलाओं का सर्व भौमिक सामाजिक संगठन करण समुदायिक संस्थाओं का निर्माण
  • समूह के संघ का निर्माण
  • प्रशिक्षण एवं कौशल उन्नयन
  • वित्तीय समावेश बाजार
  • अधोसंरचना उपलब्ध कराना।
  • ग्रामीण गरीब परिवार की वार्षिक आय न्यूनतम 100000 से अधिक वृद्धि कराना।
  • मिशन के उद्देश्यों को प्राप्त करने हेतु विभिन्न स्तरों पर क्रियान्वयन का समर्थन प्रदान करने के लिए समर्पित संरचना की व्यवस्था
bihan

Bihan के द्वारा दिए जाने वाले प्रशिक्षण के लिए प्रशिक्षण संस्थान

स्वयं सहायता समूह क्या है? What is SGH?

एक समान सामाजिक आर्थिक परिस्थिति वाली 10 से 15 गरीब महिलाओं का संगठन। स्वयं सहायता समूह के समस्त महिला सदस्य एक ही पारा मोहल्ला अथवा गांव की होती है। समूह के नेतृत्व हेतु अध्यक्ष एवं सचिव का चयन समूह के सदस्यों द्वारा ही किया जाता है।

समूह के सफल संचालन हेतु समूह के सभी सदस्य नियम तय करते हैं। समूह के नाम से एक बचत खाता बैंक खाता बैंक में खोला जाता है। समूह का दस्तावेजीकरण पुस्तक लेखन प्रशिक्षित पुस्तक संचालक के द्वारा किया जाता है। समूह का गठन का मुख्य उद्देश से परस्पर सहयोग द्वारा गरीबी उन्मूलन एवं महिला सशक्तिकरण है।

bihan

स्वयं सहायता समूह का पंचसूत्र CG Bihan – Panch Sutra of SHG Bihan

  1. नियमित सप्ताहिक बैठक
  2. नियमित साप्ताहिक बचत
  3. तीन नियमित आंतरिक लेनदेन
  4. नियमित उधार वापसी
  5. सही पुस्तक संधारण अर्थात सही हिसाब किताब।
bihan

सक्रिय महिला

एक गांव में गठित सभी स्वयं सहायता समूहों से जुड़ी हुई महिला सदस्यों के द्वारा आपसी सहमति से चयनित एक या दो ऐसी महिलाएं जो कि समूह के विकास अथवा गांव के विकास के लिए अपना योगदान एवं समय देने में सक्षम तथा इच्छुक हो उन्हें सक्रिय महिला कहते हैं सक्रिय महिलाओं को समय-समय पर मिशन के माध्यम से प्रशिक्षण प्रदान किया जाता है ताकि वह अपने दायित्वों का निर्वहन सफलतापूर्वक कर सके।

बिहान गीत

प्रकाशमय जीवन को विश्वास पूर्ण साथ हम सारे जहां स्वर्ग हो जमीन पर उतारे हम गरजते आकाश क्या पहाड़ को ना हिला सके नदिया उबर आएगी जमीन को गिरा न सके एकता की आत्म बल से गगन को चुका है हम सारे जहां स्वर्ग हो जमीन पर उतार हम

पुस्तक संचालन CG Bihan

समूह के सदस्यों में से ही कोई एक पढ़ी-लिखी सदस्य जिसका चयन समूह के सभी सदस्यों के द्वारा किया जाता है वह पुस्तक संचालक कहलाता है पुस्तक संचालक को मिशन के माध्यम से समय-समय पर प्रशिक्षण प्रदान किया जाता है ताकि वह समूह में होने वाले लेन-देन का हिसाब किताब निर्धारित रजिस्टर में लिख सके।

ये जाने – PM किसान सम्मान निधि योजना क्या है और कैसे रजिस्ट्रेशन करे

संसाधन पुस्तक संचालक CG Bihan

  • एक संकुल के अंतर्गत आने वाले सभी स्वयंसेवकों को प्रशिक्षित करने एवं समूहों का अंकेक्षण करने वाले को संसाधन पुस्तक संचालक कहा जाता है संसार पुस्तक का चयन निम्नलिखित मापदंडों के आधार पर किया जाता है
  • स्वयं सहायता समूह के पुस्तक संचालकों में से ऐसे पुस्तक संचालक जिनको 75 बैठक लिखने का अनुभव हो
  • जिनका समूह नियमित रूप से पंचसूत्र का पालन कर रहा हूं
  • संसाधन पुस्तक संचालक का चिन्ह अंकन गांव में गठित सभी समूहों से जुड़ी हुई

महिला सदस्यों के द्वारा आपसी सहमति से इनका चयन किया जाता है संसाधन पुस्तक संचालक को मिशन के माध्यम से समय-समय पर प्रशिक्षण प्रदान किया जाता है ताकि इन के माध्यम से अन्य पुस्तक संचालकों को आवश्यकता अनुसार प्रशिक्षण दिया जा सके।

ग्राम संगठन VO (Village Organization) CG Bihan

एक ही गांव या आसपास के 2 गांव में गठित 6 अधिक समूह सदस्य से स्वयं सहायता समूह जो कि पंचसूत्र का पालन कर रहे हो के द्वारा आपस में मिलकर बनाया गया संगठन ग्राम संगठन कहलाता है।

समूह को निरंतरता प्रदान करने तथा गांव की सामाजिक समस्याओं का निराकरण करने के लिए ग्राम संगठन का गठन किया जाता है। ग्राम संगठन के अंतर्गत समस्त समूह के सदस्य ग्राम संगठन के सामान्य सभा कहलाते हैं।

प्रत्येक ग्राम संगठन के अंतर्गत समस्त समूहों के प्रतिनिधि ग्राम संगठन की कार्यकारिणी समिति कहलाते हैं कार्यकारिणी समिति का कार्यकाल 3 वर्ष का होता है। ग्राम संगठन के कार्य कार्यनीति कार्यकारिणी समिति आपस में मिलकर अपने बीच में से किन्ही 3 या 5 सदस्यों को ग्राम संगठन के पदाधिकारियों के रूप में चयन करते हैं ओबी का कार्यकाल 1 वर्ष का होता है

ग्राम संगठन सहियका VOA (वीओए विलेज ऑर्गेनाइजेशन असिस्टेंट) CG Bihan

ग्राम संगठन के सामान्य सभा के द्वारा ग्राम संगठन से जुड़े सभी समूहों के पुस्तक संचालकों में से किसी एक पुस्तक संचालक को ग्राम संगठन सहायिका के रूप में चुना जाता है ग्राम संगठन सहायिका का चयन निम्नलिखित मापदंडों के आधार पर किया जाता है

  • वह स्वयं सहायता समूहों के पुस्तक संचालकों में से पुस्तक संचालक जिनको 75 बैठक लिखने का अनुभव हो
  • जिनका समूह नियमित रूप से पंचसूत्र का पालन कर रहा हूं
  • जिनको जिनके मन में गरीब के प्रति सम्मान की भावना हो।

ग्राम संगठन सहायिका को समय-समय पर मिशन के माध्यम से प्रशिक्षण प्रदान किया जाता है ताकि उसके द्वारा ग्राम संगठन में होने वाले लेन-देन का सही हिसाब किताब निर्धारित रजिस्टर में लिखा जा सके।

संकुल स्तरीय संगठन क्लस्टर लेवल फेडरेशन

एक संकुल अंतर्गत गठित समस्त ग्राम संगठनों के द्वारा लिख मिलकर बनाए गए एक संगठन को संकुल स्तरीय संगठन कहा जाता है संकुल स्तरीय संगठन का मुख्य उद्देश्य सभी ग्राम संगठनों को संगठित कर उन्हें विभिन्न विभाग एजेंसी से समन्वय बनाए रखने में मदद करना तथा स्वयं सहायता समूहों व ग्राम संगठनों की पात्रता अनुसार विभागीय योजनाओं का लाभ पहुंचाना है तथा हर संभव मदद पहुंचाना ताकि ग्रामीण गरीब परिवारों को सतत विकास हो सके प्रत्येक ग्राम संगठन के पदाधिकारी संकुल स्तरीय संगठन की कार्यकारिणी समिति कहलाते हैं संकुल स्तरीय संगठन की कार्यकारिणी समिति का कार्यकाल 3 वर्ष का होता है।

संकुल स्तरीय संगठन कार्यकारिणी समिति आपस में मिलकर अपने बीच में से किन्ही तीन या पांच सदस्यों को संकुल स्तरीय संगठन के पदाधिकारियों के रूप में चयन करते हैं संकुल स्तरीय संगठन की कार्यकारिणी का कार्यकाल 1 वर्ष का होता है।

संकुल स्तरीय संगठन मुख्य तौर पर सामुदायिक निवेश कोष सीआईएफ के प्रबंधन का कार्य करता है साथी कम्युनिटी कैडर का चुनाव कर उन्हें प्रशिक्षित कराकर प्रबंधन सेवाएं सभी इकाइयों को प्रदान करता है संकुल संगठन सुनिश्चित करता है कि संबंधित सभी गायों का समय पूर्वक ऑडिट सामुदायिक ऑडिटर ऑडिटर द्वारा हो सके संकुल संकुल अंतर्गत सभी सदस्यों को स्वयं सहायता समूहों को एक एवं ग्राम संगठनों को प्रशिक्षण प्रदान करता है करता है

bihan

सीएलएफ अकाउंटेंट या प्रबंधक (कलस्टर लेवल फेडरेशन अकाउंटेंट)

संकुल स्तरीय संगठन की कार्यकारिणी समिति संकुल संगठन के प्रबंधन एवं खाता हेतु लेखन हेतु संकुल अंतर्गत आने वाले सभी स्वयं सहायता समूह से जुड़े हुए सदस्यों में से एक के सदस्य को सीएलएफ अकाउंटेंट या प्रबंधक के रूप में चयन करती है

सीएलएफ अकाउंटेंट प्रबंधक का चयन निम्नलिखित मापदंडों के आधार पर किया जाता है

  • स्वयं सहायता समूह की तरफ से जो कम से कम स्नातक उत्तीर्ण हो
  • अपने स्वयं सहायता समूह की 75 बैठकों में उपस्थित हुई हो
  • जिसका समूह नियमित रूप से पंचसूत्र का पालन कर रहा हूं
  • जिसके मन में गरीबों के प्रति मान सम्मान की भावना हो।

ब्लॉक संगठन ब्लॉक लेवल फेडरेशन

राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के अंतर्गत प्रत्येक विकासखंड में चार संकुल स्तरीय संगठन सीएलएफ का गठन किया जाता है इन्हीं सीएलएफ को मिलाकर विकासखंड स्तर पर बनाए गए संगठन को ब्लॉक स्तरीय संगठन कहा जाता है ब्लॉक संगठन का मुख्य उद्देश्य सीएलएफ को आजीविका संबंधी गतिविधियों वित्तीय प्रबंधन इत्यादि पर मार्गदर्शन प्रदान करता है

जिला संगठन डिस्ट्रिक्ट लेवल फेडरेशन

ग्रामीण आजीविका मिशन अंतर्गत 1 जिले में आने वाले सभी ब्लॉक संगठनों को मिलाकर बनाए जाने वाले संगठन को जिला संगठन कहा जाता है

आंतरिक सीआरपी रणनीति क्या है

इंटरनल सीआरपी स्टेटस जी स्ट्रेटजी राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन अंतर्गत प्रदेश में संसाधन के रूप में विकसित विकासखंड से प्रशिक्षित समुदायिक सोमवार को जैसे सक्रीय महिलाएं पुस्तक संचालक एवं पुस्तक संसाधन पुस्तक संचालक के माध्यम से मिशन कार्यों का विस्तार प्रदेश विशेष विकास खंडों में किए जाने वाली प्रक्रिया को आंतरिक सीआरपी रणनीति कहा जाता है

कुल आंतरिक सीआरपी दल में 5 सदस्य होते हैं जिसमें 3 सक्रिय महिला तथा 2 पुस्तक संचालक जो 30 दिनों के चक्र में 2 गांव में मिशन का कार्य संपादित करते हैं। आंतरिक सीआरपी का 30 दिनों का होता है जिसमें 15 -15 दिन 2 गांव में कार्य किया जाता है

आंतरिक सीआरपी दल को 15 दिवस की अवधि में प्रत्येक गांव में कम से कम 6 नए स्वयं सहायता समूह गठित करने होते हैं तथा दो पुराने समूहों को पुनर्गठित करना होता है आंतरिक के प्रत्येक सदस्यों को दैनिक रूप से मानदेय दिया जाता है।

bihan

चक्रीय निधि रिवाल्विंग फंड उद्देश्य

स्वयं सहायता समूह की पूंजी कोष में वृद्धि करने आंतरिक लेनदेन को बढ़ाने एवं समूह सदस्यों की छोटी-छोटी उपभोग व आजीविका संबंधी आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए स्वयं सहायता समूहों को चक्रीय निधि अनुदान के रूप में उपलब्ध कराई जाती है

पात्रता

  • ऐसे समूह जिन्होंने 3 माह पूर्व किया हो एवं कम से कम 12 बैठकों या उससे अधिक में पंचसूत्र का पालन किया हो
  • ऐसा संभव जिसका बचत खाता बैंक में खुला हो एवं
  • ग्रेडिंग में कम से कम 60 प्रतिशत अंक प्राप्त किए हो उन्हें राशि ₹15000 अधिकतम अनुदान के रूप में दिया जाता है

सामुदायिक निवेश कोष सीआईएफ कम्युनिटी इन्वेस्टमेंट फंड उद्देश्य

समूह के सदस्यों के व्यक्तिगत आवश्यकता उत्पादक गतिविधि बीमारी आदि जैसे आवश्यकता की पूर्ति हेतु उचित ब्याज दर पर ऋण उपलब्ध कराना विशेषता समूह द्वारा सदस्यों को दिए जाने वाला रेन समूह के तैयार सूचना ऋण योजना में तय प्राथमिकता के आधार पर दिया जाएगा समूह द्वारा इस प्रश्न राशि का पुनर भुगतान अपने ग्राम संगठन सीएलएफ को किया जाता है जिसे ग्राम संगठन सीएलएफ पुणे अन्य समूहों को उनकी मांग के आधार पर ऋण के रूप में उपलब्ध कराता है पात्रता ऐसे समूह जिन्होंने पूर्ण किया हो एवं कम से कम 24 बैठकों या उससे अधिक में पंच सूत्र का पालन किया योजना तैयार की गई हो राशि अधिकतम रु 50,000 से ₹75000 तक समूह तोरण परंतु सेल्फ हेतु अनुदान।

ये जाने – सुकन्या समृधि योजना क्या है और कैसे रजिस्ट्रेशन करे


बैंक लिंकेज

उद्देश्य

स्वयं सहायता समूह के वित्तीय आवश्यकताओं की पूर्ति हेतु बैंकों के माध्यम से उचित ब्याज दर पर ऋण उपलब्ध कराना एवं उनके साथ व विश्वसनीयता को बढ़ाना विशेषता उत्तरण नगर साख सीमा के रूप में उपलब्ध कराया जाता है जो कि 6 से 7 वर्षों तक रिपीट लोन के माध्यम से समूह को ऋण उपलब्ध कराता है ताकि समूह को चीर स्थाई आजीविका प्रारंभ करने व जीवन की गुणवत्ता को बेहतर बनाने के लिए आवश्यक ऋण प्राप्त करने हेतु सक्षम बनाया जा सके

bihan

पात्रता

  • समूह पंचसूत्र का पालन कर रहा हूं राशि इसके अंतर्गत ऋण विभिन्न या दो डोज के रूप में प्रदान किया जाता है प्रथम अंश वर्ष के दौरान समूह के वास्तविक कोष का 4 से 8 गुना या रु 50,000 इसमें से जो भी अधिक हो।
  • मौजूदा कोष एवं आगामी 12 महीनों की प्रस्तावित बचत का 5 से 10 गुना या ₹100000 जो भी अधिक हो
  • अंक स्वयं सहायता समूह की सूचना ऋण योजना एवं पिछले साल के आधार पर न्यूनतम ₹200000।
  • या उसके बाद के अंश चौथे अंश के लिए ऋण की राशि 5 से 1000000 रुपए के मध्य तथा अथवा उसके बाद के अंशों में उच्चतर हो सकती है जो कि समूह वासियों की सूचना के आधार पर तय होगी ।


ब्याज अनुदान इंटरेस्ट सब्वेंशन CG Bihan

उद्देश्य

स्वयं सहायता समूह को कम ब्याज दर पर ऋण उपलब्ध कराना बैंक ऋण के प्रति जिम्मेदार बनाना एवं उनकी साख और विश्वसनीयता को बढ़ाना विशेषता समूह द्वारा बैंकों के प्राप्त ऋण की अदायगी और समयानुसार करने पर उनके द्वारा दें ब्याज की राशि पर छूट का प्रावधान किया गया है इससे समूह में बैंक ऋण हेतु हुनर भुगतान की प्रवृत्ति प्रबल होती है एवं उक्त बैंक ऋण पर ब्याज दर का भार मात्र 3% हो जाती है पात्रता समूह द्वारा बैंक से लिए गए ऋण खाते में 30 दिन से अधिक समय के लिए अमृत शक्ति से अधिक से सुना रहे एवं खाते में नियमित रुप से लेन-देन होता रहे साथी साथ प्रत्येक माह कम से कम एक ग्राहक प्रेरित एडिट का जरूर किया जाए जो कि इस माह की ब्याज राशि को कवर करता हूं राशि इसके अंतर्गत समूह को ₹300000 तक के ऋण पर ब्याज की राशि में नियमानुसार छूट प्रदान की जाती है

Bihan Important Links

निष्कर्ष

दोस्तों एस आर्टिकल में हम cg bihan के बारे में जाने की ये योजना किस तरह से चलता है और कैसे फायदा मिलता है अगर हम वास्तविक रूप में देखे तो ये योजना ग्रामीण परिवारों के लिए वरदान की तरह है क्योकि ये योजना मूल रूप से लोगो को लाभ पंहुचा रहा है यह केवल विभागों तक सिमित नही है बल्कि इसका जमीनी स्तर पर कार्य हो रहा है अगर आपको यह जानकारी अच्छा लगा तो नीचे कमेंट करे धन्यवाद

छत्तीसगढ़ के RSETI ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षणसंस्थान की जनकारी प्रशिक्षण संस्थान की जानकारी इस प्रकार है

  1. Baroda RSETI (BSVS) Dhamtari
  2. Baroda RSETI (BSVS) Durg
  3. Baroda RSETI (BSVS) Mahasamund
  4. Baroda RSETI (BSVS) Raipur
  5. Baroda RSETI (BSVS) Rajnandgaon
  6. SBI RSETI Govindpur Kanker


अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करे

Leave a Comment