F11 Features in Tally in Hindi: Accounting, Inventory & Taxation Feature

Tally एक अकाउंटिंग सॉफ्टवेयर है, जिसके माध्यम से किसी भी व्यवसाय बिजनेस के फाइनेंसियल ट्रांजैक्शन, स्टॉक मैनेजमेंट अर्थात इन्वेंटरी और विभिन्न प्रकार के टैक्स के मैनेजमेंट के लिए टैली अकाउंटिंग सॉफ्टवेयर का उपयोग किया जाता है, टैली इआरपी 9 और टेली प्राइम में इन कार्यों को करने के लिए F11 Features in Tally in Hindi: Accounting, Inventory & Taxation Feature उपलब्ध है.

क्या है इस जानकारी में Show

इस इस आर्टिकल में हम आपको F11 Features in Tally के अंतर्गत उपलब्ध Accounting Features, Inventory Features & Taxation Feature के सम्पूर्ण जानकारी देने जा रहे है, हम आपको विश्वास दिलाते है अगर आप इस पोस्ट को पूरा पड़ेंगे तो आपको दूसरे वेबसाइट में जाने की जरुरत नहीं होगी।

F11 Features in Tally in Hindi

FeaturesShortcut Keys
Accounting FeaturesF1
Inventory FeaturesF2
Statuary and Taxation FeaturesF3
TSSF4
Add-OnsF5
Tally F11 Features in Hindi

Tally F11 Features एक अत्यंत महत्वपूर्ण विकल्प है जिसके माध्यम से हम एकाउंटिंग कार्य करने के लिए एडवांस विकल्पों को एक्टिवेट कर सकते हैं, टैली फीचर्स के द्वारा विभिन्न विकल्पों को एक्टिवेट करके वित्तीय लेनदेन और व्यवसाय को सरल एवं आसानी से मैनेजमेंट किया जा सकता है.

F11 Features in Tally in Hindi
F11 Features in tally in hindi

Tally F11 Features क्या है

Tally F11 Features जिसे Company Features के नाम से जाना जाता है, इस विकल्प के माध्यम से Tally में विभिन्न company features को आवश्यकतानुसार Activate और Disable करने के लिए किया जाता है, F11 Features का उपयोग करने के लिए गेटवे ऑफ़ टैली में जाकर F11 बटन प्रेस किया जाता है, उदाहरण के लिए यदि मुझे Payroll तैयार करना है, तो गेटवे ऑफ़ टैली में जाकर F11 Features में जाना होगा, जिसके बाद Maintain Payroll को Yes करना होगा.

F11 Features in Tally in Hindi के प्रकार

टैली में f11 फीचर्स अर्थात कंपनी फीचर के अंतर्गत हमें विभिन्न प्रकार के फीचर उपलब्ध है, जिसमें मुख्य रूप से हम एकाउंटिंग फीचर, इन्वेंटरी फीचर्स और टैक्सेशन का उपयोग करते हैं.

F11 Features in Tally in Hindi
F11 Features in Tally in Hindi
  1. Accounting Features
  2. Inventory Features
  3. Statutory & Taxtion Features
  4. TSS (Tally Software Service Features)
  5. Add-on Features

Accounting Features in Tally

F11 Features अर्थात Company Features के अंतर्गत एकाउंटिंग संबंधी फीचर्स को इनेबल और डिसएबल करने का विकल्प प्राप्त होता है, Accounting Features का Shortcut Key F1 है.

अकाउंटिंग फीचर्स के अंतर्गत हमें मुख्य रूप से 7 प्रकार के सेक्शन उपलब्ध है जिसके माध्यम से हम एकाउंटिंग फीचर को अपने आवश्यकतानुसार एक्टिवेट और डीएक्टिवेट कर सकते हैं, जोकि Accounting Voucher Entry करने के लिए बहुत आवश्यक होते हैं –

  1. General
  2. Outstanding Management
  3. Cost / Profit Centers Management
  4. Invoicing
  5. Budgets and Scenario Management
  6. Banking Features
  7. Others Features
F11 Features in Tally in Hindi: Accounting Features
F11 Features in Tally in Hindi : Accounting Features

Accounting features में उपलब्ध सात प्रकार के Section का एक-एक करके जानकारी प्राप्त करते हैं –

General : F11 Features in Tally in Hindi

Maintain Accounts Only

यदि कंपनी में केवल पैसों का लेनदेन होता है और किसी भी प्रकार का Stock Item का अर्थात स्टॉक का लेन देन नहीं होता उस समय हम Maintain Accounts Only फीचर्स को Yes करेंगे.

Integrate Accounts and Inventory

यदि आप कंपनी में अकाउंट के साथ-साथ स्टॉक मैनेजमेंट भी करना चाहते हैं तो आपको Integrate Accounts and Inventory विकल्प को Yes करना होगा, यह विकल्प कंपनी तैयार करते समय पूछा जाता है जहां पर हमें इसे Yes करना होता है यदि आप किसी कारणवश इस एक्टिवेट नहीं कर पाए तो आप F11 पर आकर Activate कर सकते हैं.

Use Income and Expenses a/c instead of Profit and loss A/c

Tally में पहले से ही Profit and loss A/c डिस्प्ले होता है अगर आप चाहते हैं इसके बदले Income and Expenses a/c के नाम से डिस्प्ले हो तो आप इसे Yes कर दे.

Enable multi-currency

अगर आपके कंपनी में एक साथ एक से अधिक Currency का उपयोग होता है तो आप इसे Yes करें जैसे कि इंडियन रूपी डॉलर इत्यादि

Outstanding Management : F11 Features in Tally in Hindi

Maintain bill-wise details

यह विकल्प पहले से ही एक्टिवेट अर्थात Yes रहता है अर्थात जब भी हम Purchase, Sales और Payment करते हैं, उस समय पहले से मेंटेन की हुए बिल के अनुसार Amount Adjustment Ref. का विकल्प प्राप्त होता है जिसके माध्यम से क्रय और विक्रय किए गए बिल के अनुसार अकाउंट में मेंटेन होता है.

यह Maintain bill-wise details एक अच्छा फीचर्स है जिसे हमें इनेबल करके रखना चाहिए.

for non-trading accounts also

यह भी Maintain bill-wise details एक भाग है जिसमें हमें नॉन ट्रेडिंग अकाउंट में भी बिल वाइज मेंटेन करने के लिए ऑप्शन उपलब्ध कराता है.

Activate interest calculation

इस विकल्प को एक्टिवेट करने पर हमें टैली में इंटरेस्ट कैलकुलेशन ऑटोमेटिक कर सकते हैं इसके लिए हमें सबसे पहले Activate interest calculation को Yes करें.

इस विकल्प के माध्यम से Outstanding Balance अर्थात इनकम रिसिवेबल (जो पैसा मिलना है) उस पर ऑटोमेटिक ब्याज लगाया जा सकता है. इसके लिए आपको लेजर बनाते समय Activate interest calculation को Yes करना होगा.

use advanced parameters

यह भी Activate interest calculation का ही पार्ट है. जिसके माध्यम से हम एडवांस पैरामीटर्स देकर ब्याज ले सकते हैं.

Cost / Profit Centers Management : F11 Features in Tally in Hindi

Maintain Payroll

मेंटेन पैरोल को एक्टिवेट कर के हम अपने एंप्लॉय का सैलेरी पेमेंट का सही तरीके से मैनेजमेंट कर सकते हैं, इसके लिए आपको Maintain Payroll – Yes करें.

>> Maintain Payroll क्या है और टैली में इसका उपयोग कैसे करें,

Maintain Cost Centers

यह एक महत्वपूर्ण विकल्प है जिसके द्वारा बिजनेस में होने वाले खर्चों के हिसाब किताब को अच्छे तरीके से हैं रखा जा सकता है अर्थात अलग-अलग लागत अर्थात खर्चा के लिए हम हम अलग-अलग कॉस्ट सेंटर बना सकते हैं जिससे खर्चों का हिसाब रखना आसान हो जाता है.

इस ऑप्शन को उपयोग करने के लिए आपको Maintain Cost Centers को Yes करना होगा इसके बाद आपको Cost Center का विकल्प Accounts Info के अंतर्गत उपलब्ध होगा जहां पर आप अलग-अलग Cost Center बनाकर कॉस्ट मैनेजमेंट कर सकते हैं.

Invoicing

Enable Invoicing

Enable Invoicing यार एक अच्छा विकल्प है जिसमें हमें परचेज और सेल्स में इनवॉइस मोड पर कार्य करने का सुविधा उपलब्ध कराता है अर्थात बिना डेबिट और क्रेडिट किए बिना हम परचेज एंट्री कर सकते हैं.

Record Purchase in invoice mode

यदि आप परचेज वाउचर को इनवॉइस मोड में चाहते हैं तो इसके लिए आपको Record Purchase in invoice mode को Yes करना होगा.

Use Debit and Credit Note

जब हम कोई भी कंपनी में कार्य करते हैं तो उस समय टैली में पहले से Debit Note, Credit Note एक्टिवेट नहीं रहता इसे एक्टिवेट करने के लिए आपको Use Debit and Credit Note – Yes करना होगा.

Record Credit Note in Invoice Mode

अगर आप टैली में क्रेडिट नोट का उपयोग करना चाहते हैं और Invoice Mode हो तो इसके लिए आपको Record Credit Note in Invoice Mode – Yes करना होगा.

Record Debit Notes in Invoice Mode

अगर आप टैली में Debit Note का उपयोग करना चाहते हैं और Invoice Mode हो तो इसके लिए आपको Record Debit Note in Invoice Mode – Yes करना होगा.

Budgets and Scenario Management

Maintain Budgets and Controls

Maintain Budgets and Controls इस ऑप्शन को एक्टिवेट करने पर हमें बजट तैयार करने के लिए टैली में विकल्प उपलब्ध होता है जिसके माध्यम से हम बजट तैयार कर सकते हैं इसे एक्टिवेट करने के लिए Maintain Budgets and Controls को Yes करना होगा.

Use Reversing Journals and Optional Vouchers

इस ऑप्शन को एक्टिवेट करने से हम Reversing Journals को Optional Vouchers के रूप में उपयोग कर सकते हैं. इसके लिए आपको Use Reversing Journals and Optional Vouchers को Yes करना होगा.

Banking Features

Enable Cheque Printing

इस विकल्प को एक्टिवेट कर के हम चेक प्रिंट कर सकते हैं अधिक जानकारी के लिए नीचे दिए हुए लिंक पर क्लिक करें –

Cheque Printing in Tally कैसे करे, Print Configuration हिंदी में.

Set/alter transaction types

इस विकल्प को Yes करके ट्रांजैक्शन के टाइप को बदल सकते हैं.

Set/alter banking features

इस Option को Yes करके विभिन्न Banking Features का उपयोग कर सकते हैं.

Set/alter post-dated transaction features

इस विकल्प का उपयोग post-dated transaction features को एक्टिवेट करने के लिए किया जाता है.

Others Features : F11 Features in Tally in Hindi

Enable zero-valued transactions

इस ऑप्शन को एक्टिवेट करके जीरो में जीरो वैल्यू ट्रांजैक्शन किया जा सकता है.

Maintain multiple mailing details for company and ledgers

इस ऑप्शन का उपयोग करके हम एक से अधिक मेलिंग डीटेल्स भर सकते हैं.

Set/alter company mailing details

इस ऑप्शन का उपयोग मेलिंग डिटेल्स को सुधार करने के लिए किया जाता है.

Enable company Logo को Yes करके टैली में Company Logo लगा सकते हैं.

Inventory Features

इन्वेंटरी फीचर स्टॉक मैनेजमेंट के लिए अति आवश्यक फीचर में से है जिसके द्वारा हम स्टॉक मैनेजमेंट अच्छी तरीके से कर सकते हैं, Inventory Features को एक्टिवेट करने के लिए शॉर्टकट की F11 >> F2 का उपयोग करते हैं, Inventory Features Inventory Voucher Entry करने के लिए बहुत आवश्यक होते हैं –

इन्वेंटरी फीचर्स के अंतर्गत निम्नलिखित भाग उपलब्ध है इसके माध्यम से हम इन्वेंटरी फीचर्स को एक्टिवेट कर सकते हैं –

  1. General
  2. Storage and Classification
  3. Order Processing
  4. Invoicing
  5. Purchase Managment
  6. Sales Management
  7. Other Features

General : F11 Features in Tally in Hindi

Integrated Accounts & Inventory

इस विकल्प के द्वारा आप एक साथ अकाउंट्स और इन्वेंटरी एक ही कंपनी के अंतर्गत मैनेज कर सकते हैं इसलिए हमेशा इसे Yes रखें.

Enable Zero Value Transaction

इस विकल्प को Yes करने पर जीरो Value ट्रांजैक्शन का Voucher Entry किया जा सकता है.

Storage and Classification : F11 Features in Tally in Hindi

Maintain Multiple Godowns

बिजनेस में गुड्स को रखने के लिए Multiple Godowns का उपयोग किया जाता है इससे स्टॉक आइटम मैनेजमेंट अच्छी तरीके से किया जा सकता है इसे एक्टिवेट करने के लिए Maintain Multiple Godowns को Yes करें.

Maintain Multiple Godowns को yes करने के बाद हमें inventory info के अंतर्गत Godwons का विकल्प प्राप्त होगा जिसके माध्यम से हम मल्टीपल गोडाउन बना सकते हैं.

Maintain Stock Category

स्टॉक मैनेजमेंट के लिए स्टाफ को कैटिगराइज करना बहुत जरूरी होता है इसके लिए हमें टैली के इन्वेंटरी फीचर्स में Maintain Stock Category विकल्प को Yes करना होगा जिसके बाद स्टॉक कैटेगरी क्रिएशन का विकल्प हमें Inventory Info प्राप्त होगा जहां पर जाकर स्टॉक कैटेगरी बनाया जा सकता है.

Maintain Batch Wise Details

स्टाफ को बैच वाइज मेंटेन करने के लिए इस विकल्प का उपयोग किया जाता है यह एक अत्यंत महत्वपूर्ण विकल्प है जिसके द्वारा स्टॉक मैनेजमेंट अच्छे से किया जा सकता है.

Set Expiry Date for Batches

कई बार हमें कुछ चीजों का एक्सपायरी डेट मेंटेन करना होता है जैसे की दवाइयां इसके लिए हम इस विकल्प को Yes करेंगे, जिसके माध्यम से हम एक्सपायरी डेट स्टॉक आइटम में एंटर कर सकते हैं.

Use Separate actual and Billed quantity column

अगर आप चाहते हैं वाउचर एंट्री के दौरान सेपरेट एक्चुअल और बिल क्वांटिटी कॉलम अलग से दिखाई दे इसके लिए आप इस फीचर को एक्टिवेट कर सकते हैं.

Order Processing

Enable Purchase Order Processing

इस फीचर्स को एक्टिवेट करके आप स्टॉक मैनेजमेंट के लिए परचेज ऑर्डर प्रोसेसिंग को इनेबल कर सकते हैं जिसके माध्यम से आप किसी भी Sundry Creditor को Stock Item परचेज हेतु ऑर्डर दे सकते हैं.

Enable Sales Order Processing

इस फीचर्स को एक्टिवेट करके आप सेल्स ऑर्डर तैयार कर सकते हैं.

Enable Job Order Processing

इस विकल्प को Job Order Processing के लिए एक्टिवेट किया जाता है.


Invoicing : F11 Features in Tally in Hindi

Record Purchases in Invoice Mode

परचेज ऑर्डर को इन्वॉयस फॉरमैट में वाउचर एंट्री करने के लिए इसे Yes करें.

Use Debit and Credit Notes

Sales Order को इन्वॉयस फॉरमैट में वाउचर एंट्री करने के लिए इसे Yes करें.

Use Separate Discount Column in Invoices

अलग से डिस्काउंट के लिए कॉलम लाने के लिए इसे Yes करें.


Purchase Managment

Track Additional Costs of Purchase

इस विकल का उपयोग परचेज मैनेजमेंट के लिए किया जाता है जोकि परचेज में लगने वाले अतिरिक्त लागत को ट्रैक करने में आसान बनाता है इसे एक्टिवेट करने के लिए Track Additional Costs of Purchase को Yes करें.


Sales Management : F11 Features in Tally in Hindi

Use Multiple Price Levels

यह अत्यंत महत्वपूर्ण फीचर्स है जिसके माध्यम से हम स्टॉक आइटम के विभिन्न प्राइस अर्थात मूल्य निर्धारित कर सकते हैं इसे एक्टिवेट करने के लिए Use Multiple Price Levels को Yes करें. तत्पश्चात आपको यह विकल्प Inventory Info के अंतर्गत प्राप्त होगा, जहां पर जाकर विभिन्न प्राइस लेवल तैयार कर सकते हैं.

Price List in Tally in Hindi : टैली में Price List कैसे बनाएं Download PDF


Other Features

Use Tracking Numbers (Enable Delivery and Receipt Notes)

यह फीचर्स पूर्णता इन्वेंटरी मैनेजमेंट हेतु उपलब्ध होता है इस एक्टिवेट करने पर आप डिलीवरी नोट और रिसिप्ट नोट तैयार कर सकते हैं.

अगर आपको डिलीवरी नोट और रिसिप्ट नोट क्या है नहीं पता तो इस लिंक पर क्लिक करें Inventory Vouchers

Use Rejection Inward and Outward Notes

इन्वेंटरी मैनेजमेंट हेतु जब हम परचेज ऑर्डर और सेल्स ऑर्डर का एंट्री करते हैं वहां पर परचेज रिटर्न और सेल्स रिटर्न भी करना होता है तब इस स्थिति में Use Rejection Inward and Outward Notes का उपयोग किया जाता है. इसे एक्टिवेट करने के लिए Use Rejection Inward and Outward Notes को Yes करें.

Use Material in and Out Vouchers

विकल्प का प्रयोग इन्वेंटरी वाउचर में स्टॉक आइटम को एक स्थान से दूसरे स्थान में ट्रांसफर करने के लिए किया जाता है इस एक्टिवेट करने के लिए Yes प्रेस करें.

Use Cost Tracking for Stock Item : F11 Features in Tally in Hindi

इस विकल्प का उपयोग स्टॉक आइटम के कोस्टको ट्रैक करने के लिए किया जाता है इस एक्टिवेट करने के लिए Use Cost Tracking for Stock Item को Yes करें.

F11 Features in Tally in Hindi: Accounting Features, Inventory Features

Staturoy and Taxation Features

यह एक महत्वपूर्ण फीचर्स है जिसके द्वारा टैक्स मैनेजमेंट का कार्य किया जाता है, टैक्स लगाने की पूर्व आपको यहां पर निम्नलिखित दिए हुए फीचर्स को एक्टिवेट करने होंगे तभी जाकर आप टैली में विभिन्न देशों की एंट्री कर सकते हैं –

  1. Enable Goods and Services Tax (GST) – Yes
  2. Set/alter GST Details – Yes
  3. Enable Value Added Tax (VAT) – Yes
  4. Enable Excise – Yes
  5. Enable Serivce Tax – Yes
  6. Enable Tax Deducted at Source (TDS)
  7. Enable Tax Collected at Source (TCS)

ध्यान रखें आपको जीन टैक्सों की आवश्यकता है उन्हीं को एक्टिवेट करें सभी को एक्टिवेट करने की आवश्यकता नहीं है.

F11 Features in Tally in Hindi: Statutory & Taxation

Enable Goods and Services Tax (GST)

गुड्स एंड सर्विस टैक्स जिससे हम जीएसटी के नाम से जानते हैं, और आपको यह अच्छी तरह से पता है कि जब भी हम परचेज और सेल्स ट्रांजैक्शन करेंगे हमें जीएसटी लगाना ही होगा इसलिए वाउचर एंट्री से पूर्व आपको जीएसटी को एक्टिवेट करना ही होगा जीएसटी को एक्टिवेट करने के लिए Enable Goods and Services Tax (GST) को Y करें.

गुड्स एंड सर्विस टैक्स जीएसटी की वाउचर एंट्री कैसे करें


Set/alter GST Details : F11 Features in Tally in Hindi

इस विकल्पों को Yes करके जीएसटी डिटेल को अपनी आवश्यकतानुसार चेंज कर सकते हैं तभी जाकर आपका वाउचर एंट्री में जीएसटी का एंट्री डिस्प्ले होगा.

निष्कर्ष

दोस्तों आज आपको F11 Features in Tally in Hindi की जानकारी दिया गया किया गया है जिसमें अकाउंटिंग फीचर्स, इन्वेंटरी फीचर्स और टैक्सेशन फीचर्स के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी दिया हुआ है, दोस्तों याद रखें जब भी आप इन फीचर्स एक्टिवेट करें केवल आवश्यकता होने पर ही एक्टिवेट करें अन्यथा ना करें, अधिक जानकारी के लिए आप Tally के अधिकारिक वेबसाइट Tally Soultion पर विजिट कर सकते हैं, यदि आपको किसी प्रकार की समस्या आती है तो आप हमें नीचे कमेंट करके बता सकते है. साथी आप जॉब की तलाश कर रहे हैं तो आप हमारे जॉब पोर्टल Job Result Alert के माध्यम से जानकारी प्राप्त कर सकते हैं.

Read More –

Tally, MS Excel, MS Word की जानकारी प्राप्त करने के लिए आप हमारे Telegram को ज्वाइन कर लेटेस्ट जानकारी प्राप्त कर सकते हैं.

Leave a Comment