Golden Rules of Accounting – Basic Accouting की सम्पूर्ण जानकारी हिंदी में.

Basic Accounting – Golden Rules of Accounting

Golden Rules of Accounting – मुख्य रूप से एकाउंटिंग में तीन प्रकार के अकाउंट या खाते होते है –

  • Personal Account
  • Real Account
  • Nominal Account

Personal Account

Personal Account जिसे हिंदी में व्यक्तिगत खाता के नाम से जाना जाता है इस प्रकार के account में किसी व्यक्ति से सम्बंधित होता है और इस खाते का एकाधिकार होता है Personal Account कहलाता है, जैसे – Ram A/c, Ramesh A/c, Laxmi A/c.

Personal account (व्यकतिगत खाता) के Golden Rules

Receiver (पाने वाला) – Debit (Dr.)
Giver (देने वाला) – Credit (Cr.)

Example – Ramesh ने मोहन को 100 रूपये दिए.

इस example में Ramesh और मोहन के बीच लेनदेन हो रहा है और दोनों व्यक्ति है और खाते का हक़दार वह अकेले है, इस प्रकार यह व्यक्तिगत खाता के वर्ग में आएगा. उपरोक्त उदाहरण में मोहन पाने वाला है और रमेश देने वाला है, इस प्रकार इसका voucher entry इस प्रकार होगा –

Voucher entry in Tally / journal entry in एकाउंटिंग

Mohan A/c Dr. – 100
Ramesh A/c Cr. – 100

Real Account –

Real Account जिसे हिंदी में वास्तविक खाता के नाम से जाना जाता है, यह व्यापार की सम्पत्ति से सम्बंधित होता है, Real Account कहलाता है, जैसे – Purchase A/c, Sales A/c, Fixed Assets A/c.

Types of Real Account

  • Tangible accounts. (मूर्त खाता)
  • Intangible accounts. (अमूर्त खाता)
Tangible accounts. (मूर्त खाता)

Tangible खाता जिसे हिंदी में हम मूर्त खाता के नाम से जानते है, ये खाते व्यापार के सम्पति से जिसे छु या देख सकते है मूर्त खाता के नाम से जाना जाता है. for example – Building A/c, Cash A/c, Goods A/c इत्यादि.

Intangible accounts. (अमूर्त खाता)

Tangible खाता जिसे हिंदी में हम अमूर्त खाता के नाम से जानते है, ये खाते व्यापार के सम्पति से जिसे छु या देख नही सकते है अमूर्त खाता के नाम से जाना जाता है. for example – Goodwill, Patent, Copyright, Trademark इत्यादि.

Real account (वास्तविक खाता) के Golden Rules

Whats Come in (जो आता है ) – Debit (Dr.)
Whats Goes in (जो जाता है ) – Credit (Cr.)

Example – श्री तृषा कंप्यूटर से लखन ट्रेडर्स 15000 रूपये का computer system ख़रीदा. लखन ट्रेडर्स

इस example में श्री तृषा कंप्यूटर से computer system ख़रीदा जा रहा है. उपरोक्त उदाहरण में computer system हमें प्राप्त हो रहा है जो की मूर्त सम्पत्ति है और नगद रूपये जा रहा है या भी मूर्त सम्पत्ति, इसलिए इसका voucher entry इस प्रकार होगा –

Voucher entry in Tally / journal entry in एकाउंटिंग

Computer System A/c Dr. – 15000
Cash A/c Cr. – 15000

Nominal Account –

Nominal Account जिसे हिंदी में आय-व्यय खाता के नाम से जाना जाता है इस प्रकार के account में किसी आय-व्यय खाता से सम्बंधित होता है, Nominal Account कहलाता है, जैसे Rent A/c, commission received A/c, salary A/c, wages A/c, conveyance A/c, इत्यादि.

Nominal account (आय-व्ययखाता) के Golden Rules

All Expenses & Losses (सभी व्यय और हानि) – Debit (Dr.)
All Income & Gains (सभी आय और लाभ) – Credit (Cr.)

Example – बिजली बिल के 1000 रूपये दिए.

इस example में बिजली बिल भुगतान लेनदेन हो रहा है और एक Electricity Bill account जो की Expenses जो Nominal account है इसी प्रकार cash account Real account है. इस प्रकार इसका voucher entry इस प्रकार होगा –

Voucher entry in Tally / journal entry in एकाउंटिंग

Electricity Bill A/c Dr. – 1000
cash A/c Cr. – 1000

Golden Rules of Accounting – Tally ERP 9 Notes

Personal AccoutReal AccountNominal Account
DebitReceiver Whats Come InAll Expenses & Loss
CreditGiverWhats Goes OutAll Income & Gains
Golden Rules of Accounting
Golden Rules of Accounting
Golden Rules of Accounting

निम्नलिखित व्यवहारों को श्री राम कम्पयूटर्स की पुस्तक में नकल प्रविष्टियां (Journal Entry) करिये – Golden Rules of Accounting
2015
(1) नगद धन 18,000 रू और प्रिंटर – 12 नग, रेट-10,000 पर पिं्रटर, माॅनीटर – 12 नग, रेट- 4500, सी.पी.यू – 12 नग, रेट – 8000, की-बोर्ड – 12 नग, रेट-250, माउस – 12नग, रेट- 190, पर नग से व्यापार प्रारंभ कियां।
(2) कलर पिं्रटर खरीदा 10 नग, पर नग रेट – 8000 रूपये।
(3) रमेश को एक कलर प्रिंटर 10000 में बेचा।
(4) एक कलर प्रिंटर 10000 में बेचा।
(5) रमेश से 10000 रूपये प्राप्त हुआ।
(6) एच पी कम्पनी से ब्लैक एंड व्हाइट 10 प्रिंटर 7500 प्रति नग से खरीदा।
(7) एच पी कम्पनी को पेयमेंट किया।

S.No.Subject / Topic
1Tally क्या है टैली के विभिन version?
What is tally and Version of Tally?

How to use Tally ERP 9?
3Downloading and Installation of Tally ERP 9 Notes
4Basic Accounting Terms – Tally ERP 9
5How to Create Company in Tally ERP 9 Notes
Delete Company, Alter Company और Select Company
6What is Ledger and how to create in tally Tally ERP 9 Notes?
7टैली में ledger group है एवं टैली में group कैसे तैयार करे सम्पूर्ण जानकारी हिंदी में.
8Mode of Accounting – Tally ERP 9 Notes / Prime
9Basic Accounting – Personal A/C, Real A/c, Nominal A/c
10Golden Rules of Accounting – Tally ERP 9 Notes
11Accounting Vouchers in Tally ERP 9 Notes
12Inventory Voucher – Tally ERP 9 Notes
13Golden Rules of Voucher Entry
14Stock Management  or Inventory Management – Tally ERP 9 Notes
15Tax Management in Tally — Tally ERP 9 Notes –
GST Goods and Service Tax (गुड्स एवं सर्विस टैक्स)
16Tally Shortcut Keys – Tally ERP 9 Notes
17Reports – Profit & Loss A/C, Balance Sheet, Stock, Trial Balance sheet, DayBook
18Backup and Restore in tally ERP 9 Notes in hindi – Tally Prime
19Printing in tally – Print Setup
20Setting in tally – F11 and F12
21Tally erp 9 practice book pdf free download hindi & English – Tally Prime – tally 9
10

Leave a Comment