Tally Prime GST Entry, Report, GST Return, Setting, GST Auto Calculation, Voucher Entry, PDF Download सम्पूर्ण जानकारी हिंदी में.

Tally Prime GST Entry करना टैली में बहुत अधिक important है, क्योकि वर्तमान समय में भारत सरकार द्वारा GST लागू किया गया है, जिसे हम Goods & Service Tax के नाम से जानते है. GST 15 अंको का होता है जो हमें GST Registration कराने के बाद हमें प्राप्त होता है, टैली प्राइम में हम आसानी से GST का entry कर सकते है.

tally prime gst entry
Tally Prime GST Entry

GST क्या है?

GST क्या है? – GST को हिंदी में वस्तु एवं सेवा कर के नाम से जाना जाता है, GST का fullform Goods and Service Tax है, यह indirect Tax है. जो भारत सरकार द्वारा लिया जाता है, यह भारत सरकार द्वारा 1 जुलाई 2017 में लागू किया गया है . यह अन्य टैक्स जैसे उत्पाद कर, विक्रय कर, वैट एवं अन्य लगभग 50 से अधिक करो को मिलाकर जीएसटी का निर्माण किया गया है जिससे की टैक्स को सरल किया जा सके. इस GST काउंसिल द्वारा मैनेज किया जाता है जिसमे वित्त मंत्री की अगुवाई में पुरे काउंसिल कार्य करता है.

GST को एक राष्ट्र एक कर भी कहा जाता है.

GST One Tax One Nation

GST की दरे

5%
12%
18%
28%
https://www.cbic-gst.gov.in/gst-goods-services-rates.html

Types of GST

जीएसटी को निम्नलिखित भागों में विभाजित किया गया है

SGST – State Goods and Service Tax
CGST – Central Goods and Service Tax
IGST – Integrated Goods and Service Tax

tally prime gst entry

SGST क्या है?

SGST क्या है? – SGST को हिंदी में राज्य वस्तु एवं सेवा कर और SGST को English में State Goods and Service Tax के नाम से जाना जाता है, यह GST टैक्स स्टेट गवर्नमेंट को जाता है. जैसे यदि कंप्यूटर खरीदें उसमें 18% जीएसटी लगाया जा रहा है तो उसमें 9 परसेंट SGST के रूप में लगाया जाता है, SGST केवल स्टेट के अंदर ही खरीदी और बिक्री करने के लिए लगाया जाता है अर्थात स्टेट के अंदर कोई व्यक्ति माल खरीदना है और माल बेचता है तो उसे SGST देना पड़ता है.

CGST क्या है?

CGST क्या है? – CGST को हिंदी में केन्द्र वस्तु एवं सेवा कर और CGST को English में Central Goods and Service Tax के नाम से जाना जाता है, यह GST टैक्स Central Goverment को जाता है. जैसे यदि कंप्यूटर खरीदें उसमें 18% जीएसटी लगाया जा रहा है तो उसमें 9 परसेंट CGST के रूप में लगाया जाता है, CGST केवल स्टेट के अंदर ही खरीदी और बिक्री करने के लिए लगाया जाता है अर्थात स्टेट के अंदर कोई व्यक्ति माल खरीदना है और माल बेचता है तो उसे CGST देना पड़ता है.

CGST 1 स्टेट के अंदर खरीदी और बिक्री करने पर लगाया जाता है जैसे मैं टीवी करता हूं उसके ऊपर 18 पर्सेंट जीएसटी दिया तो बिल में 9 परसेंट एसजीएसटी और 9 परसेंट सीजीएसटी के नाम से एंट्री के जाता है इस प्रकार कुल 18% जीएसटी लगाया गया

IGST क्या है?

IGST क्या है? – IGST को हिंदी में एकीकृत वस्तु एवं सेवा कर और IGST को English में Integrated Goods and Service Tax के नाम से जाना जाता है. IGST इंटीग्रेटेड जीएसटी को जब हम एक स्टेट से दूसरे स्टेट में लेनदेन करते हैं, तब IGST लगाया जाता है. जैसे मैं माल को मुंबई से लेकर आया और उसे छत्तीसगढ़ में बेचा तो इस प्रकार दो राज्यों के बीच में लेन-देन हो रहा है, तो इस प्रकार के लेन दिनों में IGST लगाया जाता है जैसे कि कोई मैं वाशिंग मशीन खरीद रहा हूं तो इसके ऊपर IGST 18 परसेंट लगाया जाएगा.

GSTIN क्या है?

GSTIN क्या है? GSTIN को हिंदी में वस्तु एवं सेवा कर पहचान संख्या कहा जाता है और GSTIN को Englsih में Goods and Service Tax Identification Number अंको का होता है, GSTIN का fullform पूरा नाम – Goods and Service Tax Identification Number होता है जिसे हम 5 भागों में बाट सकते है .

  • State Code
  • PAN Number
  • Entity Number
  • Z Defult Letter
  • Check Sum Digit
tally prime gst entry

GSTIN State Code

GSTIN प्रत्येक राज्य के लिए unique number निर्धारित किया गया है जो की इस प्रकार है –

GSTIN State CodeName of State
01जम्मू एवं कश्मीर (Jammu and Kashmir)
02हिमाचल प्रदेश ( Himachal Pradesh)
03पंजाब ( Punjab)
04चंडीगढ़ ( Chandigarh)
05उत्तराखण्ड (Uttarakhand)
06हरियाणा (Haryana)
07दिल्ली (Delhi)
08राजस्थान (Rajasthan)
09उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh)
10बिहार (Bihar)
11सिक्किम ( Sikkim)
12अरुणाचल प्रदेश ( Arunachal Pradesh)
13नागालैंड (Nagaland)
14मणिपुर (Manipur)
15मिजोरम (Mizoram)
16त्रिपुरा (Tripura)
17मेघालय (Meghalaya)
18असम (Assam)
19पश्चिम बंगाल (West Bengal)
20झारखण्ड (Jharkhand)
21उडीसा (Orissa)
22छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh)
23मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh)
24गुजरात (Gujarat)
25दमण एवं दीव (Daman and Diu)
26दादर एवं नगर हवेली (Dadra and Nagar Haveli)
27महाराष्ट्र (Maharashtra)
28आंध्रप्रदेश(Andhra Pradesh)
29कर्नाटक (Karnataka)
30गोवा (Goa)
31लक्षद्वीप (Lakshdweep)
32केरल (Kerala)
33तमिलनाडु (Tamil Nadu)
34पांडिचेरी (Pondicherry)
35अंडमान- निकोबार (Andaman and Nicobar)
GSTIN Code State

PAN Number

PAN का fullform Permanent Account Number होता है, GSTIN में व्यापार-व्यवसाय के स्वामी का पैन कार्ड की संख्या सम्मिलित होता है जो कि 10 अंकों का होता है इसलिए जीएसटी पंजीयन के समय पैन कार्ड अनिवार्य होता है।

Entity Number

Z Defult Letter

Check Sum Digit

Tally Prime GST Entry (Tally Prime GST Auto Calculation)

अगर हम टैली के जानकर है और टैली में कार्य करना चाहते है तो हमें टैली में gst का ज्ञान होना अति अवश्यक है तो अब हम टैली में Tally Prme GST Entry के बारे मे जानते है, टैली में GST यानि गुड्स एंड सर्विस टैक्स जुलाई 2019 के बाद से जोड़ा गया है gst आपको टैली लेटेस्ट वर्शन tally prime में देखने को मिल जायेगा.

GST Activation

GST Activation – सबसे पहले हमें GST को activate करना है, Tally के Latest Version Tally Prime में कंपनी Create ही हमें हमारे GST Details की जानकारी भरना होता है, इस लिए बाद में और GST को Activate करने Require नही है. फिर जाहे तो Tally Prime में GST activate करने के लिए F11 Press करें.

tally prime gst entry

Tally Prime GST Entrytally में gst की entry करने लिए हमें इन चरणों का पालन करना होगा –

  • सबसे पहले आप gateway of tally पर जाये.
  • F11 features पर जाये.
  • कम्पनी features में जाकर Statutory and Taxation विकल्प को सेलेक्ट करें.
  • Statutory and Taxation में जाने के बाद आपको इसका डायलॉग बॉक्स दिखाई देगा.
  • डायलॉग बॉक्स में Enable Goods and Service Tax को yes करें.
  • उसके बाद set / alter gst details को yes करें.
  • yes करते ही आपको इस तरह से स्क्रीन दिखाई देगा जिसमे हमें सम्पूर्ण जानकरी भरना होगा जैसे state, GST number, period of gst इत्यादी .
tally prime gst entry

इन सभी जानकारियों को भरकर सेव करें और इस प्रकार हमारा gst टैली में activate हो जायेगा.

GST Ledger Creation

अब आपको तीन प्रकार के GST Ledger क्रिएट करने होंगे

  • SGST
  • CGST
  • IGST

SGST (state goods and service tax) जैसे कि आपको पहले से पता है की यह टेक्स स्टेट गवर्नमेंट को जाता है है और इससे हम टैली में sgst के नाम से लेजर बनाएंगे जिसमें हम [email protected]%, [email protected]%, [email protected]% के नाम से बना सकते है

इस लेजर को बनाते समय ध्यान में रखें की टाइप ऑफ टैक्स जीएसटी सेलेक्ट करें और उन्हें परसेंटेज देना ना भूलें इस प्रकार से भी जानकारी भरकर सुरक्षित करें.

CGST (Central goods and service tax) जैसे कि आपको पहले से पता है की यह टेक्स सेे Central Government को जाता है है और इससे हम टैली में cgst के नाम से लेजर बनाएंगे जिसमें हम [email protected]%, [email protected]%, [email protected]% के नाम से बना सकते है.

tally prime gst entry

चलिए अब तीनो लेजर बनकर तैयार है.

Stock Item Creation for GST Auto Calculation

अब हम स्टॉक आइटम बना लेंगे stock item बनाते समय इन बातो का ध्यान रखे –

> Set / Alter GST details को yes करे.

> Yes करते ही आपको GST Details for Stock Item में Calculation type : On Value करें और Taxability को Taxable करे.

> Integrated Tax Rate डाले जैसे 18, 28, 12 or 5 अपने स्टॉक आइटम के GST दर अनुसार निर्धारित करे.

Voucher Entry for Tally Prime GST Entry and Auto Calculation

Stock Item बनते ही हम Voucher में जाकर Entry करते हैं, जैसे कि आप नीचे देख पा रहे हैं हमने स्टॉक आइटम Keyobard, Printer बनाया हुआ है जो कि एक Electronic Item है. जिसमें GST 18 परसेंट दिया जाना है. यह लेनदेन 1 स्टेट के अंदर हो रहा है इसीलिए यहां पर CGST 9 परसेंट or SGST 9% लगाया जा रहा है.

जैसे ही आप voucher entry एंट्री करेंगे अब आइटम एंट्री करने के बाद एक इंटर नीचे आ जाएंगे नीचे आते हैं, CGST और SGST के लेजर को सेलेक्ट करते हैं ऑटोमेटिक आपका जीएसटी gst amount वाउचर में आने लगेगा.

tally prime purchase entry with gst

tally prime gst entry

tally prime Sales entry with gst

tally prime gst entry

Tally Prime GST Report

tally prime gst entry
tally prime gst entry
tally prime gst entry

Tally Prime GST PDF

Tally Prime GST Invoice

Tally Prime GST Setting

Tally Prime GST Payment Entry

टैली क्या है What is Tally | Fullform | notes hindi pdf and Versions of Tally.

Mode of Accounting – Single Entry Systems and Double Entry System in Tally

Tally ERP 9 Notes in Hindi – GST, Voucher Entry, Basic Accounting, Tally PDF

Tally GST notes in hindi pdf GST Goods and Service Tax (गुड्स एवं सर्विस टैक्स)

S.No.Subject / Topic
1Tally क्या है टैली के विभिन version?
What is tally and Version of Tally?

How to use Tally ERP 9?
3Downloading and Installation of Tally ERP 9 Notes
4Basic Accounting Terms – Tally ERP 9
5How to Create Company in Tally ERP 9 Notes
Delete Company, Alter Company और Select Company
6What is Ledger and how to create in tally Tally ERP 9 Notes?
7टैली में ledger group क्या है एवं टैली में group कैसे तैयार करे सम्पूर्ण जानकारी हिंदी में.
8Mode of Accounting – Tally ERP 9 Notes / Prime
9Basic Accounting – Personal A/C, Real A/c, Nominal A/c
10Golden Rules of Accounting – Basic Accouting की सम्पूर्ण जानकारी हिंदी में.
11Accounting Vouchers in Tally ERP 9 Notes
12Inventory Voucher – Tally ERP 9 Notes
13Golden Rules of Voucher Entry
14Stock Management  or Inventory Management – Tally ERP 9 Notes
15Tax Management in Tally — Tally ERP 9 Notes –
GST Goods and Service Tax (गुड्स एवं सर्विस टैक्स)
16Tally Shortcut Keys – Tally ERP 9 Notes
17Reports – Profit & Loss A/C, Balance Sheet, Stock, Trial Balance sheet, DayBook
18Backup and Restore in tally ERP 9 Notes in hindi – Tally Prime
19Printing in tally – Print Setup
20Setting in tally – F11 and F12
21Tally erp 9 Practice Book pdf free Download hindi
10

दोस्तों आपको यह जानकारी कैसा लगा, आप हमें कमेंट करके जरुर बताये और आप हमारे वेबसाइट को Home पेज में जा कर लाल कलर के बेल या घंटे को दबा कर सब्सक्राइब कर सकते है और आप हमारे Telegram Channel में भी जुड़े जिससे आपको लेटेस्ट notification मिलता रहेगा साथ ही साथ आप इसे WhatsApp, Facebook सोशल मीडिया प्लेटफार्म में शेयर कर सकते है.

2 thoughts on “Tally Prime GST Entry, Report, GST Return, Setting, GST Auto Calculation, Voucher Entry, PDF Download सम्पूर्ण जानकारी हिंदी में.”

Leave a Comment